अपहरण और फिरोती मामलें में कल्याणेश्वरी सूर्या निवास में छापेमारी छः गिरफ्तार

आसनसोल: कल्याणेश्वरी मंदिर के निकट स्थित कुल्टी थाना के चौरंगी फाड़ी अंतर्गत सूर्या निवास होटल में सोमवार को झारखण्ड मैथन तथा चौरंगी पुलिस की साझा दबिश में पुलिस ने 6 लोगों को अपहरण के आरोप समेत एक स्विफ्ट डिजायर,रिनोल्ट क्विड  समेत 7 मोबाईल फ़ोन के साथ मैथन पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है| घटना के संदर्भा में बताया जाता है की बिहार भाभुवा जिला निवासी संजय कुमार सोमवार की तडके सुबह सूर्या निवास नामक होटल से भागकर मैथन डैम पहुचे जहाँ उन्होंने डैम की सुरक्षा में तैनात सीआईएसऍफ़ जवानों को अपनी  आपबीती और अपहरणकर्ताओं की चंगुल से बच निकलने की व्यथा सुनाई, इधर मामले की गंभीरता देखते हुए सीआईएसऍफ़ जवानों ने तत्काल घटना की जानकारी मैथन थाना को देते हुए अपहरणकर्ताओं के कल्याणेश्वरी स्थित सूर्य निवास में छुपे होने की जानकारी दी, इधर मैथन पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए भुक्तभोगी संजय कुमार की निशानदेही पर चौरंगी पुलिस की सहायता से छापेमारी कर 6 आरोपियों को हिरासत में ले लिया, इधर मैथन पुलिस ने सभी आरोपियों को अपने साथ मैथन थाना ले जाकर उनसे पूछताछ का मामले की जाँच कर रही है, इधर सोमवार की प्रातः काल ही भुक्त भोगी संजय की पत्नी आशा देवी अपने भाईयों के साथ मैथन थाना पहुच गई जहाँ पुलिस उनसे भी मामले की पूछताछ कर रही है| आशा देवी के अनुसार उनके पति को बीते 14 अगस्त को अपहरण कर 5 लाख की फिरोती की मांग की जा रही थी, उन्होंने कहा की 15 अगस्त को 50 हजार रूपए का पहला क़िस्त अकाउंट में जमा करा दिया गया था, उन्होंने कहा की होटल के स्टाफ से मेरे पति ने सहायता मांगी थी, जिसके बाद होटल स्टाफ के बताये गए पता पर यहाँ पहुँचा हूँ|      वही पुरे घटना के संबध में बताया जा रहा है कि संजय कुमार सिंह भुभआ बिहार के निवास जो गुमला मे केवल के तार बिछाने का कार्य करते थे उन्हे सुधीर प्रसाद, शशी सिंह, विकास सिंह, दिनेश कुमार (सासाराम निवासी) आशितोष कुमार अनिल कुमार (गया निवासी) जो गुमला में उसके साथ केवल का तार बिछाने का कार्य करते थे। वे लोग संजय कुमार सिंह को 14 अगस्त को अपरहण कर 2 दिन झारखण्ड क्षेत्र में धुमाने के बाद 16 अगस्त की शाम कल्याणेश्वरी सुर्या निवास में कमरा बुक किया, भुक्तभोगी संजय कुमार सिह ने बताया कि वह सुधीर प्रसाद एव अन्य दो लोगों के साथ 3 लाख रुपये देकर गुमला में केवल के तार बिछाने का ठेका का नाम करता था। इसी बीच गुमला से केबल केवट की चोरी हो गई, घटना के बाद इन लोगों ने मुझे अन्य लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज कराने का दबाब बना रहे थे। किन्तु जब मैने ऐसा करने से इनकार कर दिया तो 14 अगस्त को सुधीर प्रसाद , शशी सिंह और विकास सिंह ने अपहरण कर लिया,  होटल में दो कमरा बुक कर अपने साथ मुझें भी पकड़कर रखा। और मारपीट करते हुए मेरे घर वालों से 5 लाख फिरौती की मांग की,हलाकि सोमवार की देर संध्या तक आरोपी एवं भुक्तभोगी से मैथन थाना में पूछताछ जारी है, फ़िलहाल समाचार लिखें जाने तक मामला दर्ज नहीं हो पाया था था, पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अपहरण की पूरी वारदात को साजिश के तहत गढ़ी जाने की बात सामने आ रही है, भुक्तभोगी संजय सिंह द्वारा ही पूरी कहानी रचने की बात कही जा रही है| फ़िलहाल पुलिस द्वरा मामले की छानबीन जारी है|