अब दानह में होगा प्लास्टिक विरोधी अभिया, मनमानी करने पर, प्रतिदिन प्रति उल्लंघन 100 रूपये वसूला जाएगा।

स्वच्छता शपथ के जरिये सभी नागरिकों को स्वच्छ भारत अभियान से जोडऩे का प्रयास | Kranti Bhaskar image 1
silvassa nagar palika Swachhata Sapath Silvassa NAPA
सिलवासा : सिलवासा नगर परिषद द्वारा आगामी 25 सितम्बर से प्लास्टिक विरोधी अभियान प्रारंभ किया जाएगा. इस संबंध में नगरपालिका के मुख्य अधिकारी द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों शुरू हुए स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत सिलवासा नगर परिषद द्वारा 15 से 30 सितम्बर-2017 तक स्वच्छता ही सेवा है, इस विषय पर स्वच्छता पखवाड़ा का आयोजन हो रहा है.
भारत के संविधान के आलेख 48-ए के मुताबिक, अन्य बातों पर विचार किया गया है कि राज्य पर्यावरण की रक्षा के लिए प्रयास करेगा. दमण-दीव और दादरा नगर हवेली प्रशासन द्वारा पर्यावरण और स्थानीय परिस्थिति पर प्लास्टिक बैग के प्रतिकूल प्रभावों पर विचार करने के बाद महसूस किया कि प्लास्टिक बैग से पर्यावरण पर हानिकारक प्रभाव पड़ते है और यह देखा गया है कि प्लास्टिक बैग भी गटर, सीवरेज सिस्टम और नालियों के रूकावट के कारण होते है. जिससे मानव और पशुओं दोनों को गंभीर पर्यावरणीय और स्वास्थ्य से संबंधित समस्यांओं का सामना करना पड़ता है. पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा के अंतर्गत दमण-दीव एवं दादरा नगर हवेली के प्रशासक द्वारा ऑर्डर के अनुसार दिनंाक 1 मार्च 2014 से किसी भी प्रकार की प्लास्टिक का प्रयोग, बिक्री और संग्रहण करने से मना किया गया है.
  • सिलवासा नगर परिषद द्वारा प्लास्टिक विरोधी अभियान 25 से
स्वच्छता पखवाड़ा के अंतर्गत सिलवासा नगर परिषद द्वारा सर्वसाधारण/दुकानदारों से आग्रह किया जाता है कि वह इस रविवार यानि 24 सितम्बर से किसी भी प्रकार के प्लास्टिक का उपयोग न करें क्योंकि 25 सितम्बर से सिलवासा नगर परिषद द्वारा प्लास्टिक विरोधी अभियान का प्रारंभ करने जा रही है. जो लोग किसी भी प्रकार की प्लास्टिक का प्रयोग, बिक्री और संग्रहण करते है उनको प्रशासनिक शुल्क सिलवासा नगर परिषद को देना होगा. प्रतिदिन प्रति उल्लंघन 100 रूपये प्रशासनिक शुल्क नगर परिषद को देना होगा.
संध प्रदेश दमन-दीव व दानह में अभी भी अभियानों का दौर जारी है, कभी सफाई अभियान तो कभी कुछ, अब एक बार भ्रष्टाचार मिटाओ अभियान भी कर दीजिए प्रशासक महोदय, जनता आपके अधिकारियों की करतूतों से त्रस्त है और उन्हे अभी भ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश की आवश्यकता अधिक है।