आर्थिक तंगी से छुटकारा दिलाएगा निर्जला एकादशी व्रत, बस इन 10 तरीकों से करना होगा भगवान विष्णु को प्रसन्न

नई दिल्ली। हिंदू धर्म के अनुसार निर्जला एकादशी व्रत का विशेष महत्व होता है। शास्त्रों के अनुसार बताया गया है कि भगवान श्री विष्णु का यह व्रत करने वाले व्यक्ति को आर्थिक समस्याओं से छुटकारा मिलता है और उसका जीवन हर प्रकार की पीड़ा से मुक्त बनता है। निर्जला एकादशी का व्रत बिना पानी पीए रखना होता है और पति-पत्नी दोनों के द्वारा इस व्रत को रखने से उनके दाम्पत्य जीवन में निश्चित रूप से लाभ मिलता है।

  1. शास्त्रों के अनुसार बताया गया है कि इस दिन दान करने और भगवान विष्णु की आराधना करने से जीवन सकारात्मक प्रभाव से भर जाता है।
  2. इस साल यह व्रत 13 जून 2019 को रखा जाएगा जिसके लिए सुबह समय से उठकर भगवान विष्णु का स्मरण और पूजा कर व्रत संकल्प लेना चाहिए।
  3. इस दिन तुलसी पूजन का खास महत्व होता है इसलिए शाम के समय तुलसी की पूजा ज़रूर करें और उसके नीचे देसी घी का दीपक जलाएं।
  4. रोगों का नाश करने के लिए, सुख-सौभाग्य और समृद्धि पाने के लिए इस दिन ग़रीब और ज़रूरतमंद को भोजन कराएं और साथ ही ब्राह्मण पूजन भी करें।
  5. इस दिन भगवान विष्णु को आम, खरबूजा, चीनी, वस्त्र , हाथ का पंखा अर्पण करें और साथ ही इन चीज़ों का दान भी करें।
ये भी पढ़ें-  खामोर में पल्स पोलियों अभियान के तहत दो बूंद जिंदगी की खुराक पिलाई।

lord vishnu dev

6.इस दिन गौ सेवा का भी बहुत महत्व माना जाता है इसलिए गाय की सेवा करें और संभव हो तो गौ दान करें। यह उपाय आपको हर मुश्किल से बचाए रखने में मदद करेगा।
7.24 घंटे के इस व्रत में ध्यान रखें कि बिना अन्न-जल ग्रहण करे व्रत को संपन्न करें और जितना संभव हो भगवान का ध्यान करें।
8.यह व्रत पुण्य प्राप्ति के लिए और मुसीबतों से छुटकारा पाने के लिए रखा जाता है जिसके फलस्वरूप व्यक्ति को स्वर्ग की प्राप्ति होती है।
9.साथ ही इस दिन मीठे पानी का दान करने से भी भगवान को प्रसन्न करने में सहायता मिलती है और प्रत्येक कार्य बिना किसी विघ्न के संपन्न होते हैं।
10.इस व्रत को करने वाले व्यक्ति को ईश्वर की कृपा मिलती है, उसे चिंताओं से मुक्ति मिलती है पाप कम होता है और मन शुद्ध होता है।

ये भी पढ़ें-  जोधपुर में नहीं थम रहा कोरोना संक्रमितों की मौत का सिलसिला