कमर्शियल माइनिंग के खिलाफ महाहड़ताल का ऐलान

23

राहुल तिवारी, पश्चिम बंगाल (आसनसोल)- कोल इंडिया मैं कमर्शियल माइनिंग के विरोध में ईसीएल के सालानपुर एरिया गेस्ट हाउस में ऑल ट्रेड यूनियनों के जॉइंट एक्शन कमेटी द्वारा आवश्यक बैठक की गई।

बैठक में स्वाभाविक रूप से 2 जुलाई से 4 जुलाई तक पूरे कोल इंडिया का चक्का जाम करने पर सहमति हुई। इस दिन पूरे ईसीएल के श्रमिक हड़ताल में रहंगे।

कमर्शियल माइनिंग के खिलाफ महाहड़ताल का ऐलान - आसनसोलबैठक के दौरान सीएमएस(एआईटीयूसी) के महामंत्री आरसी सिंह ने कहा कि केन्द्र में मौजूदा सरकार श्रमिको के हित विरोधी है। जब से केन्द्र में ये सरकार आई है। बस सरकारी उपक्रमो को बेचने का कार्य कर रही है। प्रत्येक सरकारी क्षेत्रो को धीरे धीरे बेच रही हैं। आज कोल इंडिया के 30 प्रतिशत शेयर बेच चुकी है। जबकि कई कोल ब्लॉक को नीलाम कर चुकी है। कोल इंडिया का रिजर्व फण्ड से 66 हजार करोड़ रुपया केन्द्र सरकार ने पहले ही ले लिया है। अगर ये पैसा कोल इंडिया के पास रहता तो कोल इंडिया नए उपकरण ला कर ओर अधिक कोयले का उत्पादन करती। जबकि केन्द्र सरकार इतने बड़े क्षेत्र को बेचने में लगी है। ईसीएल कर्मी के पीएफ और अन्य विकल्पों के साथ छेड़छाड़ किया जा रहा है। इसलिए केन्द्र सरकार की इस नीति का पुरो जोर बिरोध करने के लिए  जुलाई के 2 तरीक से 4 तारिक तक श्रमिक संगठनों और श्रमिको द्वारा पूर्ण हड़ताल रहेगा। हड़ताल को सफल बनाने के लिये यह बैठक का आयोजन किया गया है। जिसे सफल बनाना है।

एचएमएस के महामंत्री एस के पांडेय ने कहा कि हम सरकार को झुकने पर मजबुर कर देंगे जबतक हमारी 5 सूत्री मांग नहीं मानी जायेगी तब तक हड़ताल पर रहगें।

बैठक में आईएनटीयूसी महामंत्री चंडी बनर्जी, सिटू सह सचिव सुजीत भट्टाचार्जी, बीएमएस के संगठन सचिव धन्नजय पांडेय, अध्यक्ष गोबिंदो मजी, इनमोसस माइनिंग संघठन के सलानपुर एरिया सचिव वीरेन तिवारी, सभा अध्यक्ष प्रभात राय, सीएमएस(एआईटीयूसी) संगठन सचिव शैलेन्द्र सिंह, केंद्रीय समिति सदस्य राजेश सिंह, असीम नाग(एरिया एचएमएस सचिव), अजय चक्रबर्ती(बीएमएस एरिया सचिव), तीर्थांकर पत्रो(एरिया सचिव) और संघठन के कार्यकर्ता और श्रमिक उपस्तिथि रहे।

This post was created with our nice and easy submission form. Create your post!