कोरोना का इलाज़, 103 रुपये कि आई दवाई, पढिए पूरी खबर।

0
155
कोरोना का इलाज़

महाराष्ट्र। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स (Glenmark Pharmaceuticals) ने कोविड-19 (Covid-19) से मामूली रूप से पीड़ित मरीजों के इलाज के लिए एंटीवायरल दवा फेविपिराविर को फैबिफ्लू ब्रांड नाम से पेश किया है। कंपनी ने शनिवार को यह जानकारी दी। ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स का हेडक्वाटर महाराष्ट में है, मुंबई की इस कंपनी ने शुक्रवार को कहा था कि उसे भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से इस दवा के निर्माण और मार्केटिंग की अनुमति मिल गई।

कोरोना का इलाज़, 103 रुपये कि आई दवाई, पढिए पूरी खबर। - महाराष्ट्र

कंपनी का कहना है कि फैबिफ्लू कोविड-19 के इलाज के लिए फेविपिराविर दवा है, जिसे मंजूरी मिली है। ग्लेमार्क फार्मास्युटिल्स के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक ग्लेन सल्दान्हा ने कहा, ‘यह मंजूरी ऐसे समय मिली है जबकि भारत में कोरोना वायरस के मामले पहले की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ रहे हैं। इससे हमारी स्वास्थ्य सेवा प्रणाली काफी दबाव में है।’ उन्होंने उम्मीद जताई कि फैबिफ्लू जैसे प्रभावी इलाज की उपलब्धता से इस दबाव को काफी हद तक कम करने में मदद मिलेगी।

कोरोना का इलाज़, 103 रुपये कि आई दवाई, पढिए पूरी खबर। - महाराष्ट्र

कोरोना के पीड़ितों पर कारगर
सल्दान्हा ने कहा कि क्लिनिकल परीक्षणों में फैबिफ्लू ने कोरोना वायरस के हल्के संक्रमण से पीड़ित मरीजों पर काफी अच्छे नतीजे दिखाए। उन्होंने कहा कि इसके अलावा यह खाने वाली दवा है जो मरीजों को आसानी से उपलब्ध हो सके। यह दवा चिकित्सक की सलाह पर 103 रुपये प्रति टैबलेट के दाम पर मिलेगी। इस खबर के साथ सवाल यह भी है कि क्या यह दवा जनता को सरकार मुफ़्त उपलब्ध कराएगी या फिर इस दवा पर भी अन्य दवाओं कि तरह टैक्स लगाकर मुनाफा कमाएगी? बताया जाता है कि पहले दिन इसकी 1800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी। उसके बाद 14 दिन तक 800 एमजी की दो खुराक लेनी होगी।

कोरोना का इलाज़, 103 रुपये कि आई दवाई, पढिए पूरी खबर। - महाराष्ट्र

ग्लेनमार्क फार्मा ने कहा कि मामूली संक्रमण वाले ऐसे मरीज जो मधुमेह या दिल की बीमारी से पीड़ित हैं, उन्हें भी यह दवा दी जा सकती है। सवाल यह भी है कि इस दवा पर उक्त फार्म कंपनी कितना मुनाफा कमाएगी? यह सवाल इस लिए क्यों कि इससे पहले कई दवाओं पर भारी मुनाफाखोरी जनता कि जेब ढीली करती रही है ओर यह दौर तो ऐसी महामारी का है जब जनता को सबसे अधिक दवाओं कि आवश्यकता होगी। खेर इस दवा पर कंपनी को मुनाफा करना चाहिए या नहीं ओर जनता तक यह दवा कम से कम दामों पर कैसे पहुंचे ओर सरकार को इसके लिए क्या करना चाहिए इसके लिए आप अपनी राय नीचे दिए गए कमेन्ट बॉक्स में दे सकते है।   

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here