कोरोना संकट पर बोले केजरीवाल, दिल्ली में गंभीर केस कम, 75 फीसदी केस में लक्षण नहीं

नई दिल्ली: तमाम कोशिशों के बावजूद देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। दिल्ली में भी कोराना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 6923 तक पहुंच गया है। अब तक 73 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि दो हजार 69 मरीज ठीक हो चुके हैं। इन सबके बीच सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में 75 फीसदी मामले हल्के लक्षण वाले हैं। साथ ही उन्होने ये भी कहा कि हल्के लक्षण वाले लोगों का इलाज अब घर पर ही होगा।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि दिल्ली में करीब 7 हजार कोरोना पॉजिटिव केस हैं। इसमें से 1500 लोग हॉस्पिटल में हैं। इसमें से सिर्फ 27 ही वेंटिलेटर पर हैं। उन्होंने बताया कि ज्यादा केस माइल्ड लक्षण या बिना लक्षण वाले हैं। केजरीवाल ने आगे कहा कि कोरोना वायरस से जान गंवानेवाले ज्यादा लोग बुजुर्ग हैं। उन्होंने बतायाकि दिल्ली में कोरोना से हुई कुल मौतों में से 82 प्रतिशत 50 साल से ऊपर के हैं। केजरीवाल ने कहा कि ‘इस मुसीबत की घड़ी में कोरोना वॉरियर्स अपनी जान जोखिम में डालकर लोगों का इलाज कर रहे हैं। ऐसे में अगर वे कोरोना वायरस का शिकार होंगे तो उनके बेहतर इलाज की भी जिम्मेदारी हमारी है।’

ये भी पढ़ें-  आरबीआई ने सरकारी प्रतिभूतियों की बिक्री के लिए 30000 करोड़ रुपये की अंडरराइटिंग नीलामी की घोषणा की

इस के दौरान सीएम केजरीवाल ने प्रवासी मजदूर के पलायन को लेकर भी दुख जताया। उन्होंने कहा कि ‘मैं कई दिनों से सोशल मीडिया पर मजदूरों के पलायन की तस्वीरें देख रहा हूं। जिनमें मजदूर पैदल चल रहे हैं। उनके पैरों में छाले पड़ गए. ये देखकर तकलीफ होती है।’ अरविंद केजरीवाल ने मजदूरों से अपील करते हुए कहा कि ‘हमनें आपके खाने पीने का बंदोस्त किया हुआ है। आप दिल्ली छोड़कर मत जाइए। लेकिन फिर भी आप जाना चाहते हैं तो आपको लिए हमनें ट्रेनों का इंतजाम किया है। हमनें बिहार और मध्यप्रदेश ट्रेन भेजी भी है। हम आपकी जिम्मेदारी लेते हैं बस आप पैदल मत जाइए।’

ये भी पढ़ें-  GST Effect: मार्बल और दूसरी चीजें महंगी, घर बनाना हुआ तिगुना खर्चीला