कोरोना संकट में मददगार बन रहे है शेखावत

कहीं राशन तो कहीं दवाइयां पहुंचाकर बढ़ाया मदद का हाथ

जोधपुर। कोरोना महामारी के दौरान केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत संकट में फंसे लोगों की मदद करने में कोई कसर नही छोड़ रहे हैं। शेखावत ने राजस्थान ही नहीं, कई प्रदेशों में लॉकडाउन में फंसे हुए लोगों को संकट के इस समय में मदद दिलाई है। सामान्य परिस्थितियों में निधन होने पर शव पहुंचाने की व्यवस्था तक करवाई। कई गंभीर रूप से बीमार को अस्पताल तक ले जाने का इंतजाम करवाया। किसी के घर राशन भिजवाया है तो किसी को उसके वृद्ध परिजनों तक पहुंचाने की व्यवस्था की है।

भाजपा के संभाग मीडिया प्रमुख अचल सिंह मेड़तिया ने बताया कि कोरोना के वैश्विक संकट में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की टीम पूरे मनोयोग से संकट में जरूरत मंदो की मदद करने में जुटे हुए हैं। पीएमओ इंडिया कोरोना मॉनिटरिंग एंड कंट्रोलिंग कमेटी के राजस्थान प्रभारी व केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत खुद अपने स्तर पर मॉनिटरिंग कर लोगों को हर संभव सहायता करने का प्रयास कर रहे हैं। जोधपुर सांसद शेखावत ने राजस्थान के विभिन्न जिलों के साथ ही गुजरात, महाराष्ट्र, पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, तेलंगाना, उड़ीसा, झारखण्ड, मिजोरम, हरियाणा सहित अनेक राज्यों में रहने वाले प्रवासियों की मदद करने में कोई कसर नही रख रहे हैं। डेथ और चिकित्सकीय मामलों में सम्पर्क करने वालो की तत्काल सहायता करवा रहे हैं। विशेष परिस्थतियों में ऐसे अनेक लोग जो विभिन्न जिलों में फंस गए। उनको सम्बंधित जिलों के अधिकारियों एवं समजसेवियों से संपर्क कर अल्प समय में मदद करने का प्रयास किया जा रहा है। खाद्य सामग्री व राशन के आलावा अनेक लोगों को दवाईयां तक उपलब्ध करवाई जा रही है।

ये भी पढ़ें-  क्रिकेट स्टेडियम के बाद मोदी के नाम पर अब मेडिकल कॉलेज, गुजरात में तैयारी

कोरोना महामारी के आरम्भ में ही शेखावत ने देश के विभिन्न स्थानों पर रह रहे राजस्थान के प्रवासियों को मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने इसके लिए एक हेल्प लाइन मोबाइल नंबर 7026447777 उपलब्ध करवाया, ताकि जो जहां है जरूरत के समय वहीं से मैसेज करके सहायता प्राप्त कर सके। संकट के समय भोजन, दवाइयों या कोई और समस्या होने पर इस नंबर पर अपना नाम, टेलीफोन नंबर, शहर, स्थान और कितने लोगों के लिए व्यवस्था की आवश्यकता है, यह लिखकर मैसेज करने पर जल्द से जल्द मदद करवाई गई।