चीन के साथ तनाव को देखते हुए लद्दाख सीमा में 54 मोबाइल टावर लगाएगा भारत

25
चीन के साथ तनाव को देखते हुए लद्दाख सीमा में 54 मोबाइल टावर लगाएगा भारत - राष्ट्रीय

नई दिल्‍ली: चीन के साथ सीमा तनाव के बीच केंद्र सरकार ने लद्दाख के सीमावर्ती क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे में सुधार पर ध्यान केंद्रित करने का निर्णय लिया है। मिली जानकारी के अनुसार, लद्दाख में 54 मोबाइल टॉवरों का निर्माण शुरू हो गया है। साथ ही लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पास डेमचोक में एक मोबाइल टॉवर बनाया जाएगा।

योजनाओं के अनुसार, नुब्रा क्षेत्र में 7 मोबाइल टॉवर, लेह में 17 मोबाइल टावर, ज़ांस्कर में कम से कम 11 मोबाइल टॉवर बनाए जाएंगे, जबकि कारगिल में 19 मोबाइल टावर लगाए जाएंगे। पांच दशकों में भारत और चाइन की सेनाओं के बीच अब तक के सबसे बड़े सैन्य टकराव में 15 जून की रात को गलवान में आमने-सामने की लड़ाई के दौरान चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़पें हुई थीं।

भारतीय सेना ने बयान में कहा था कि उसके 20 सैनिक शहीद हुए और दावा किया था कि झड़पों में लगभग दोगुनी संख्या में चीनी सैनिक भी मारे गए हैं। इस बीच विदेश मंत्रालय (एमईए) ने भारत और चीन ने बुधवार को नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शांति सुनिश्चित करने के लिए डी-एस्केलेशन को लागू करने पर सहमति व्यक्त की।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “भारतीय पक्ष ने पूर्वी लद्दाख में हाल के घटनाक्रमों पर अपनी चिंताओं से अवगत कराया, जिसमें 15 जून को गलवान घाटी क्षेत्र में हिंसक घटना शामिल है। जिसके परिणामस्वरूप दोनों देशों के जवान हताहत हुए थे। इस संबंध में इस बात पर जोर दिया गया था कि दोनों पक्षों को सख्ती से वास्तविक नियंत्रण सीमा का सम्मान करना चाहिए और निरीक्षण करना चाहिए।

दोनों पक्षों ने मौजूदा स्थिति को शांति से हल करने के लिए भारत-चीन सीमा मामलों (WMCC) पर परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र के ढांचे के तहत राजनयिक और सैन्य स्तर पर संचार बनाए रखने के लिए भी सहमति व्यक्त की।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, इसके बाद भी चीन सीमाओं पर अपनी सेना की तादाद को बढ़ाने में लगा हुआ है। उसने एक बार फिर से कई इलाकों में बंकर बना लिए हैं और हथियार इकट्ठा किए हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच चल रही शांति वार्ता प्रभावित हो सकती है।