जमीनी कार्यकर्ता ही भाजपा का आधार, इन्हीं के दम पर भाजपा विश्व का सबसे बड़ा राजनीतिक संगठन बना – देवल

रानीवाड़ा। हमें हमारे आस-पास नजर आने वाली विशाल बहुमंजिला इमारतें, बड़े-बड़े और चौडे-चौड़े पेड़ तो बाहरी आवरण में दिख जाते हैं, लेकिन इन विशाल इमारतों और पेड़ों का मुख्य आधार जो जमीन के नीचे रहता है अर्थात इमारतों की नींव की ईंट और पेड़ों के बीज तथा जडें। ये कभी भी ना तो दिखाई देते हैं और ना ही कोई इनकी प्रशंसा करता है, फिर भी वो अपनी अस्तित्व नहीं खोते हैं। कंगूरे और शाखाऐं तो केवल बाहरी चमक-धमक है, इन पर ना तो आजतक कोई इमारत टिकी है और ना ही कोई वृक्ष बड़ा हुआ है।

इसी मूलमंत्र को ध्यान में रखकर 6 अप्रेल, 1980 को मुठ्ठीभर समर्पित जमीनी कार्यकर्ताओं के साथ शुरू हुआ राजनीतिक संगठन भारतीय जनता पार्टी अपने शैशव काल से युवावस्था तक आते-आते आज लगभग 20 करोड़ प्राथमिक सदस्यों के साथ केवल देश ही नहीं अपितु दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक संगठन बन चुका है। इतने कम समय में ये चमत्कार ऐसे ही नहीं हुआ है, इसके पीछे हमारे संगठन को खड़ा करने में नींव की ईंट बनकर जमीनी और समर्पित कार्यकर्ताओं ने जो त्याग, तपस्या और बलिदान दिए हैं, उसका परिणाम आज हम सबके सामने हैं। आज भाजपा को छोड़कर, भारत का एक भी राजनीतिक दल या संगठन ऐसा नहीं है, जिसमें एक कार्यकर्ता भी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री जैसे महत्वपूर्ण पदों तक पहुंच सके, ये केवल और केवल भाजपा में ही संभव है, बाकि के दलों में तो जिसने दल बनाया उसका ही उत्तराधिकारी बेटा, पोता या अन्य कोई रिश्तेदार ही अध्यक्ष बन सकता है। इसलिए भाजपा का मूल आधार उसका जमीनी और समर्पित कार्यकर्ता ही है। ये उद्गार रानीवाड़ा विधायक नारायण सिंह देवल ने आज भारतीय जनता पार्टी कार्यालय रानीवाड़ा में जिला/मण्डल पदाधिकारियों हेतु कार्य विभाजन के लिए आयोजित बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं के समक्ष प्रकट किए। देवल ने कहा कि हमारे पार्टी नेतृत्व ने तय किया है कि प्रत्येक कार्यकर्ता को काम और प्रत्येक काम के लिए कार्यकर्ता को भागीदार बनाया जाना बहुत आवश्यक है।

ये भी पढ़ें-  विधायक विधान उपाध्याय ने एथोड़ा गांव में ग्रामीणों से किया वादा निभाया

जाहिर सी बात है कि हमारी पार्टी आज की तारीख में विश्व का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र की सरकार का नेतृत्व हमारी पार्टी कर रही है, तो निश्चित ही जिम्मेदारियाँ भी ज्यादा होंगी और जिम्मेदारियाँ ज्यादा होंगी, तो काम भी ज्यादा होगा और जब काम ज्यादा होगा, तो उसे करने के लिए ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ताओं की भी जरूरत होगी। इसलिए हमारी पार्टी ने सभी कार्यकर्ताओं को समान रूप से कार्य विभाजन करने का दायित्व दिया है, जिसे हम सब को आपसी समझ, तालमेल और सहयोग से पूरा करना है। हम सौभाग्यशाली हैं कि हमारा नेतृत्व दुनिया के सबसे प्रभावशाली नेता आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के हाथों में हैं और हमारे संगठन का नेतृत्व सहृदय, मिलनसार, मृदुभाषी और ऊर्जावान अध्यक्ष आदरणीय श्री जगत प्रकाश जी नड्डा के हाथों में है और सबसे बडे सौभाग्य की बात है कि हमारे कार्यकर्ता जो समर्पित भाव से पार्टी के हित में धरातल पर जाकर काम करते हैं और पार्टी की रीति-नीति तथा विचारधारा को आगे बढ़ाते हैं। कार्यकर्ताओं की मेहनत एवं लगन का परिणाम है कि 2018 में देश के 75 प्रतिशत भू-भाग पर भाजपा और उसके सहयोगी दलों की सरकारें थी, वो दिन भी दूर नहीं जब पूरे देश में भाजपा और उसके सहयोगी दलों की सरकारें होंगी। बैठक को भाजपा जिलाध्यक्ष श्रवण सिंह राव बोरली, प्रशिक्षण शिविर कार्यक्रम संयोजक खेमराज देसाई, आत्मनिर्भर भारत अभियान संयोजक मंगल सिंह सिराणा, निवर्तमान प्रधान पंचायत समिति भीनमाल धूखाराम पुरोहित ने भी सम्बोधित किया। बैठक में जिला उपाध्यक्ष भैरूदान चारण, जिला महामंत्री प्रकाश मेघवाल, जिला मंत्री मनजीराम चौधरी, जिला मंत्री ऊक सिंह परमार, रानीवाड़ा मण्डल अध्यक्ष रिडमल सिंह डाबी, सांकड मण्डल अध्यक्ष अमृत लाल चौधरी, जसवन्तपुरा मण्डल अध्यक्ष दौलत सिंह कलापुरा, बडगांव मण्डल अध्यक्ष बाबूलाल पुरोहित, करड़ा मण्डल अध्यक्ष तुलसाराम मांजू, पूनमाराम मेघवाल, हुकमाराम भील, जोईताराम भील सहित सैकडों कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित रहे।