जहानाबाद: निगरानी की टीम ने सिविल सर्जन के लिपिक को 30 हजार रिश्वत लेते गिरफ्तार किया

24
जहानाबाद: निगरानी की टीम ने सिविल सर्जन के लिपिक को 30 हजार रिश्वत लेते गिरफ्तार किया - बिहार

बिहार के जहानाबाद जिले से इस वक्त बड़ी खबर आ रही है जहां निगरानी की टीम ने सिविल सर्जन के लिपिक को किया 30 हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। लिपिक अनिल कुमार सिंह ने प्रभारी बनाने के लिए रिश्वत की मांग की थी। डॉ मोहम्मूद इरफानुर रहमान ने निगरानी से इस बाबत शिकायत की, जिसके बाद अनिल सिंह को गिरफ्तार किया गया। निगरानी की टीम के समक्ष अनिल ने लिखित में बयान सिविल सर्जन पर भी मिलीभगत का आरोप लगाया है। 

सीएस कार्यालय का उक्त क्लर्क सिकरिया पीएचसी के एक चिकित्सक डॉक्टर इरफान से पदस्थापना के लिए घूस मांग रहा था, जिसकी शिकायत चिकित्सक में निगरानी विभाग से की थी। शुरुआती छानबीन में जब निगरानी विभाग को लगा कि चिकित्सक की शिकायत जायज है, तो विभाग में निगरानी विभाग के डीएसपी विमलेंदु वर्मा के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई गई। 

टीम ने शनिवार को जहानाबाद में सिविल सर्जन कार्यालय के मुख्य मुख्य लिपिक के चारों ओर अपना जाल फैलाया। निगरानी विभाग के कहने पर डॉक्टर इरफान ने जैसे ही लिपिक को रुपये दिये, पहले से जाल बिछाए निगरानी की टीम ने उसे धर दबोचा। 

डीएसपी विमलेंदु वर्मा ने बताया बताया कि चिकित्सक की शिकायत पर यह छापेमारी की गई है, जिसमें लिपिक अनिल कुमार को 30 हजार रुपए घूस लेते हुए गिरफ्तार किया गया है। लिपिक से पूछताछ की जा रही है। उन्होंने बताया की इसमें और किसकी किसकी संलिप्तता है, यह लिपिक से पूछताछ और छानबीन के बाद ही पता चलेगा।