जोधपुर में नहीं थम रहा कोरोना संक्रमितों की मौत का सिलसिला

एक और मौत, अब तक तीन महिलाओं सहित सात जने गंवा चुके है अपनी जान

जोधपुर। सूर्यनगरी में गत चार दिन से कोरोना संक्रमितों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती एक और मरीज की संक्रमण से मौत हो गई। इस तरह शहर में अब तक तीन महिलाओं सहित सात जनों की करोना से मौत हो चुकी है।

बंबा मौहल्ला निवासी 70 वर्षीय अब्दुल गनी लंबे समय से गुर्दा तंत्र की गम्भीर रोग से पीडि़त था। उसे क्रोनिक किडनी डिज़ीज़ और यूरिमिक इंसिपैलोपैथी की शिकायत थी। उसे महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था और वह कोरोना पॉजिटिव था। उसकी मौत हो गई है। उसकी मौत के बाद उसके रहवासीय क्षेत्र को घेरे में ले लिया और पूरे क्षेत्र में सघन जांच अभियान शुरू किया गया है। इस क्षेत्र में अब घर-घर जांच की जा रही है। साथ ही मृतका के संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा रहा है। बताया गया है कि अभी तक जोधपुर में हुई मौतों के मामले में ज्यादातर मृतकों ने अपनी पुरानी बीमारियों की जानकारी छुपा कर रखी और ये गलती बहुत भारी पड़ी। इन लोगों ने घर-घर सर्वे में अपनी पुरानी बीमारी की जानकारी नहीं दी। नतीजतन इनका टेस्ट देरी से हुआ और रिपोर्ट पॉजिटिव आने के चंद घंटों बाद ही मौत हो गई।

ये भी पढ़ें-  मुंद्रा पोर्ट ड्रग्स केस : स्पेशल कोर्ट ने दिल्ली से गिरफ्तार सुशांत सरकार को 7 अक्टूबर तक NIA की कस्टडी

बता दे कि जोधपुर में अब तक कोरोना संक्रमण से सात मौतें हुई है। गत 8 अप्रेल की देर रात एमडीएम अस्पताल में पहली मौत प्रतापनगर यूआईटी कॉलोनी निवासी लालचंद धनानी (77) की हुई थी। फिर 16 अप्रेल की रात एमडीएम अस्पताल में दूसरी मौत खेतानाड़ी मंडोर निवासी मोहम्मद हाफिज (56) की हुई। इसके बाद 25 अप्रेल की रात एम्स जोधपुर में मोहनपुरा पुलिया रातानाडा निवासी दिनेश परिहार (65) और उसके चंद घंटों बाद प्रतापनगर निवासी साठ वर्षीया रमजाना पत्नी मजीद की मौत हुई। रविवार दोपहर बाद महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती स्टेडियम के पास बंबा मोहल्ला निवासी 65 वर्षीय रोशनआरा की मौत हुई। सोमवार को नई सडक़ निवासी जुबैदा (56) पत्नी फारूक ने दम तोड़ा। मंगलवार को बंबा मौहल्ला निवासी 70 वर्षीय अब्दुल गनी की मौत हो गई।