थानाधिकारी की गोली से पुलिस कमांडो की मौत

पुलिस ने पहले कमांडो की खुद के वैपन से गोली लगना बताया, बाद में परिजनों के विरोध जताने पर माना- गोली थानाधिकारी के वैपन से लगी

14 28 4 2020

जोधपुर। तस्करों का पीछा करते समय ग्रामीण पुलिस की विशेष टीम के कमांडो अशोक विश्नोई की बोरूंदा थानाधिकारी के वैपन से गोली लगने से मौत हो गई। पुलिस टीम पाली जिले के रायपुर थाने इलाके के बर चौराहे पर एक दुकान पर अपनी गाड़ी के टायर का पंक्चर निकलवा रही थी। इसी दौरान टीम में शामिल बोरूंदा थानाधिकारी ओमप्रकाश कसानिया के वैपन का अचानक ट्रिगर दब गया ओर गोली पास में खड़े कमांडो अशोक विश्नोई को लग गई जो उसके चेहरे को भेदती हुई आरपार हो गई। गंभीर रूप से घायल होने पर उसे तत्काल बिलाड़ा अस्पताल फिर मथुरादास माथुर अस्पताल भेजा गया जहां कुछ देर बाद उनकी मौत हो गई। पहले पुलिस अधिकारियों गोली अशोक विश्नोई की वैंपन से निकलने से होना बताया था लेकिन साथ वाले कमांडोज ने उसके घरवालों को सच्चाई बता दी। इस पर घरवालों ने शव लेने से इंकार कर मोर्चरी के बाहर धरना शुरू कर दिया। उनके विरोध जताने पर वहां पहुंचे एसपी राहुल बारहठ ने इस बात को स्वीकार किया कि जवान की मौत थानाधिकारी की पिस्तौल से भूलवश चलने से हुई है। घरवालों ने कमांडो को शहीद का दर्जा दिए जाने और लापरवाही बरतने वाले थानाधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग रखी है। कमांडो की मृत्यु का समाचार प्राप्त होते ही पुलिस विभाग में शोक छा गया।

ये भी पढ़ें-  महाकाल की नगरी उज्जैन पर कोरोना का काला साया, मृत्युदर राष्ट्रीय औसत से काफी ज्यादा

ग्रामीण पुलिस अधीक्षक राहुल बारहठ ने बताया कि मादक पदार्थों एवं अवैध हथियारों की तस्करी रोकने के लिए जिला स्पेशल टीम एवं कमांडो को लगाया गया है। मंगलवार अलसुबह बिलाड़ा एवं बोरूंदा पुलिस की तरफ से मार्ग पर नाकाबंदी करवाई थी। तब एक गाड़ी को रूकने का इशारा किया गया लेकिन वह नाकाबंदी से भाग निकली। इस पर पुलिस की स्पेशल टीम एवं कमांडो पीछे लग गए। तब तस्करों ने फायरिंग भी की। इस पर पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। आगे जाकर गाड़ी को पकडऩे के साथ उसमें काफी मात्रा में डोडा पोस्त जब्त किया गया। इस दौरान एक अन्य वाहन में सवार तस्करों का पुलिस की टीमों की तरफ से पीछा किया गया। तस्कर अपनी गाड़ी को लेकर बिलाड़ा-बर रोड की तरफ लेकर गए। इनका काफी पीछा किया गया लेकिन वे बाद में भागने में सफल हो गए। लौटते वक्त पुलिस की टीम की एक गाड़ी बर रोड पर पंक्चर हो गई। तब एक दुकान पर पंक्चर निकालने के लिए खड़े गए। इस दौरान एक हादसे में कमांडो भोजासर के केलनसर निवासी अशोक विश्नोई को अचानक गोली लग गई। तब पुलिस अधिकारियों ने उसके वैपन का अचानक ट्रिगर दबने से गोली लगने की कहानी बयान की। हादसे में गंभीर रूप से घायल होने पर पहले बिलाड़ा फिर जोधपुर रैफर किया गया लेकिन उसकी मौत हो गई। मौत की सूचना पर खुद पुलिस अधीक्षक राहुल बारहठ, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रघुनाथ गर्ग, डिप्टी एसपी बिलाड़ा हेमंत कुमार आदि अस्पताल पहुंचे। इस बीच अस्पताल में मृतक के घरवाले भी पहुंच गए और उन्हें टीम में शामिल कमांडोज से गोली बोरूंदा थानाधिकारी की पिस्टल से लगने की जानकारी मिलने पर वे विरोध पर उतर आए। उन्होंने शव लेने से इंकार करते हुए जवान को शहीद का दर्जा देने और लापरवाही बरतने वाले थानाधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग रख दी। एसपी राहुल बारहठ ने रिपोर्ट देने पर मुकदमा दर्ज करने का भरोसा दिया। एसपी राहुल बारहठ ने बोरूंदा थानाधिकारी के वैपन को अनलोड करते समय गलती से गोली चलने और जवान को लगने की बात की पुष्टि की है।