धोखेबाज चीन अब दोलत बेग ओलदी में घुसपैठ करने पर आमादा, भारतीय सेना ने दिया करारा जवाब

66
धोखेबाज चीन अब दोलत बेग ओलदी में घुसपैठ करने पर आमादा, भारतीय सेना ने दिया करारा जवाब - राष्ट्रीय

नई दिल्ली। चालबाज चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। गलवान में मुंह की खाने के बाद अब दोलत बेग ओल्दी में भारतीय जवानों के गश्ती दल से भिड़ना शुरू कर दिया है। चीन हमेशा भारतीय जवानों के सामने 1962 दोहराता है लेकिन 1967 भूल जाता है। बहरहाल, भारतीय सेना ने चीन से लगती लगभग 4000 किलोमीटर की सीमा पर चौकसी और बढ़ा दी है। जहां से भी चीन से चुनौती मिल सकती है उन सभी प्वाइंट्स पर अतिरिक्त सैन्य बलों की तैनाती करदी गयी है। लड़ाकू जहाज और हेलीकॉप्टरों से सीमा की निगरानी की जा रही है।

बहरहाल, चीन एक तरफ गलवान सीमा पर गतिरोध दूर करने के लिए भारत से कूटनीतिक और सैन्य बातचीत कर रहा है और दूसरी ओर उसने पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग और कई दूसरे स्थानों पर सेना की तैनाती बढ़ाता जा रहा है। चीन ने गलवान घाटी में भी अपने सैनिकों की संख्या में अच्छी खासी बढ़ोतरी कर दी है। गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक लगभग 45 चीनियों को मारने के बाद वीरगति को प्राप्त हुए थे। इस इलाके में चीन ने एक निगरानी चौकी स्थापित की थी जिससे दोनों सेनाओं के बीच झड़प शुरू हुई थी।

भारत के कड़े विरोध के बावजूद चीन की सेना ने एक बार फिर पेट्रोलिंग पॉइंट 14 के आसपास कुछ ढांचा खड़ा किया है। पिछले कुछ दिनों से चीन गलवान घाटी पर अपना दावा किया है जिसे भारत ने खारिज कर दिया है। पैंगोंग सो और गलवान घाटी के अलावा दोनों सेनाएं देमचॉक, गोगरा हॉट स्प्रिंग और दौलत बेग ओल्डी में भी आमने सामने हैं। बड़ी संख्या में चीन के सैनिकों ने एलएसी पर भारत की सीमा में घुसपैठ की। चीन ने अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और उत्तराखंड में एलएसी पर कई सेक्टरों में अपने सैनिक और हथियारों की तैनाती बढ़ाई है।

गलवान घाटी और पैंगोग सो के बाद अब वह दौलत बेग ओल्डी में भी भारतीय सेना की गश्त में बाधा डाल रहा है। चीन ने दौलत बेग ओल्डी और डेस्पांग सेक्टर के पास अपने तंबू गाड़ दिए हैं। वहां चीनी सेना के बेस में हलचल तेज हो गई है। जून की सैटेलाइट तस्वीरों में इसका खुलासा हुआ है। वहां चीन के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने भी वहां अपनी स्थिति मजबूत कर ली है।