नालों की सफाई को लेकर हाईकोर्ट ने लगाई लताड़, जिला कलेक्टर सहित कई अधिकारी हुए उपस्थित, चार सप्ताह में मांगी प्रगति रिपोर्ट

0
17
जोधपुर। शहर के सभी प्रमुख पांच नालों की सफाई व्यवस्था व अतिक्रमण को लेकर माधोसिंह कच्छवाह की ओर से दायर याचिका की सुनवाई मंगलवार को हाईकोर्ट खंडपीठ में हुई। सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने अफसरों को नालों की सफाई नहीं होने पर जोरदार लताड़ लगाई। इसके साथ ही आगामी चार सप्ताह में इस मामले में प्रगति रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए।
राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश के बावजूद नालों की मरम्मत व सफाई नहीं होने तथा माता का थान नाले की समस्त रेवेन्यू रिकॉर्ड लेकर हाईकोर्ट ने जिला कलेक्टर को व्यक्तिगत रूप उपस्थित होने के आदेश दिए थे। इस पर मंगलवार को हाईकोर्ट में लंच के बाद जिला कलेक्टर डॉ. रविकुमार सुरपुर, तहसीलदार व एडीएम प्रथम सहित अन्य अधिाकरी हाईकोर्ट खंडपीठ के समक्ष अतिरिक्त महाधिवक्ता राजेश पंवार के साथ उपस्थित हुए। सुनवाई के दौरान जस्टिस संगीतराज लोढ़ा व जस्टिस विरेन्द्र कुमार माथुर की खंडपीठ ने नालों की सफाई व्यवस्था को लेकर अधिकारियों को लताड़ लगाते हुए कहा कि अंतर विभागीय कोर्डिनेटर की कमी के कारण आम जनता परेशान हो रही है। इसके लिए खंडपीठ ने कलेक्टर को इन नालों की सफाई व मरम्मत के लिए मोनिटरिंग व कोर्डिनेशन का जिम्मा सौंपते हुए चार सप्ताह में नालों की प्रगति रिपोर्ट हाईकोर्ट में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने मामले में बारिश से पहले इन नालों की सफाई व मरम्मत कार्य पूरा करने के भी निर्देश दिए।