निर्मला मीणा और ठेकेदार सुरेश उपाध्याय की जमानत याचिका खारिज 33 हजार क्विंटल गेहूं के गबन का मामला: वकीलों की हड़ताल के कारण पति ने की निर्मला की पैरवी

0
30
पूछताछ में सहयोग नहीं कर रही निर्मला मीणा | Kranti Bhaskar
INQUIRY
जोधपुर। जिला रसद विभाग से करीब आठ करोड़ रुपए का पैंतीस हजार क्विंटल गेहूं का अतिरिक्त आवंटन कर गबन करने के मामले में निलम्बित आईएएस व तत्कालीन जिला रसद अधिकारी निर्मला मीणा और गेहूं सप्लाई ठेकेदार सुरेश उपाध्याय की भ्रष्टाचार मामलात संबंधी कोर्ट ने जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। वे दोनों जेल में है। वकीलों की हड़ताल के कारण निर्मला मीणा के पति पवन कुमार मित्तल ने कोर्ट में उसकी तरफ से पैरवी की लेकिन कोर्ट ने उनकी दलीलों को नही माना। बता दे कि मित्तल स्वयं आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में आरोपी है।
एसीबी के पुलिस अधीक्षक अजयपाल लांबा ने बताया कि तैंतीस हजार क्विंटल गेहूं के गबन के मामले में निलम्बित आईएएस अधिकारी निर्मला मीणा और गेहूं सप्लाई ठेकेदार सुरेश उपाध्याय को पिछले दिनों गिरफ्तार कर जेल भिजवाया गया था। उन्होंने एसीबी कोर्ट में जमानत याचिका दायर की थी। गुरुवार को अधिवक्ताआें की हड़ताल के चलते एसीबी कोर्ट जज अजयकुमार शर्मा प्रथम के समक्ष निर्मला मीणा के पति पवन कुमार मित्तल ने खुद अपनी पत्नी की जमानत अर्जी पर पैरवी की लेकिन अदालत में मीणा के पति की दलीले नहीं चली और कोर्ट ने मीणा की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया। इसी तरह ठेकेदार सुरेश उपाध्याय की जमानत अर्जी को भी खारिज कर दिया। बताया गया है कि अब जल्द ही मीणा के पति पवन मित्तल हाईकोर्ट में अपनी पत्नी की जमानत अर्जी पेश कर सकते है। बता दे कि तत्कालीन डीएसओ निर्मला मीणा पर लगभग पैंतीस हजार क्विंटल गेहूं गलत तरीके से वितरित कर गबन करने का आरोप है जिसकी कीमत करीब आठ करोड़ रुपए थी। इस मामले में अब तक निर्मला मीणा, सुरेश उपाध्याय और आटा मील मालिक स्वरूपसिंह राजपुरोहित गिरफ्तार हो चुके है जबकि तत्कालीन लिपिक अशोक पालीवाल की तलाश जारी है।
पति के खिलाफ भी दर्ज है मामला
बता दे कि निलम्बित आईएएस निर्मला व उसके पति पवन कुमार मित्तल के खिलाफ भी एसीबी ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला दर्ज कर रखा है। इस मामले में जांच के दौरान खुलासा हुआ था कि निर्मला मीणा ने अपने पिछले दस साल के कार्यकाल के दौरान करोड़ों रुपए की काली कमाई से कई संपत्तियां अर्जित की थी। निर्मला मीणा व पवन मित्तल के नाम से मिली करोड़ों की प्रॉपर्टी के कुछ कागजात एसीबी ने रजिस्ट्री ऑफिसों से निकाले है। इनमें असली कागजात कहां है, वह मित्तल को पता है। एसीबी के अनुसार मीणा और उसके पति मित्तल ने अपने पद रहते 232 फीसदी अधिक आय अर्जित की। इस एफआईआर की प्रति भ्रष्टाचार मामलात की विशेष अदालत जोधपुर में पहुंच चुकी है। एफआईआर के अनुसार आईएएस मीणा ने 3 करोड़ 6 लाख 82 हजार 164 रुपए की आय अर्जित की है। इसमें से मात्र 1 करोड़ 31 लाख 96 हजार 692 रुपए का हिसाब ही बता पाई। इस लिहाज से दोनों के पास करीब 232 फीसदी आय से अधिक सम्पत्ति पाई गई। इस मामले में उनके पति पवन मित्तल को भी आरोपी बनाया है।