पटलारा पंचायत में ग्रामसभा सम्पन्न, ग्रामीणों ने खुलकर रखी समस्यांयें 

पटलारा पंचायत में ग्रामसभा सम्पन्न, ग्रामीणों ने खुलकर रखी समस्यांयें  | Kranti Bhaskar
संघ प्रदेश दमण के पटलारा ग्राम पंचायत में शुक्रवार को ग्रामसभा का आयोजन हुआ. जिसमें ग्रामीणों ने खुलकर गांव की समस्यायें उठायी. ग्रामसभा में प्रशासन के उच्चाधिकारियों की गैरमौजूदगी से लोगों में नाराजगी रही. इस संदर्भ में ग्रामीणों का कहना था कि ग्रामसभा में प्रशासनिक अधिकारी रहते तो उन्हें गांव की समस्यायें मालूम पड़ती, जिससे इन समस्याओं को हल करने में मदद मिलती. उन्होंने कहा कि पांच-पांच ग्राम सभायें हो चुकी हैं और गांव की समस्यायें ज्यों की त्यों पड़ी हैं. काम तो कुछ हुआ नहीं फिर ग्रामसभा करने का क्या मतलब? ग्रामीणों ने गांव की गलियों, फलियों के बदहाल रास्तों को दुरुस्त करने, रास्तों पर प्रकाश का इंतजाम करने, पानी आपूर्ति ठीक करने जैसे मुद्दे उठाये. पिछले दिनों राजीव गांधी सेतु के पास सड़क चौड़ीकरण में बाधक बने गरीबों के मकानों को हुए नुकसान के लिये पीडि़तों को सरकारी आवास योजनाओं से लाभान्वित करने की भी आवाज उठी. इस अवसर पर सरपंच विजय पटेल ने ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और सड़क, बिजली, पानी जैसी बुनियादी सुविधाओं की बहाली के लिये ग्राम पंचायत और सरपंच के पास पर्याप्त वित्तीय अधिकार नहीं होने की विवशता दिखायी. सरपंच ने कहा कि दीव की तरह दमण के सरपंचों और पंचायतों को वित्तीय शक्तियां दी जानी चाहिये. जिससे कि ग्रामीण विकास के कार्यों को तेजी से पूरा कराने में आसानी हो. सरपंच विजय पटेल ने ग्रामसभा के बारे में बताते हुए कहा कि ग्रामीणों ने समस्यायें रखी हैं. पटलारा ग्राम पंचायत इन सभी समस्याओं का निराकरण करने को गंभीर है. सड़कों के निर्माण और जल समस्या के निदान के लिये बोरवेल समेत मुद्दों पर हमें प्रशासन से ठोस सहयोग की अपेक्षा है. ग्रामसभा में मकवाणा साहब के साथ पटलारा के पंचायत सदस्यों और गांव के अग्रणियों की मौजूदगी रही.