पहली बार जोधपुर पहुंचे आचार्य डॉ. लोकेश मुनि कहा धर्म हमें जोडऩा सिखाता है तोडऩा नहीं: डॉ. लोकेश मुनि

0
24

जोधपुर। मारवाड़ क्षेत्र में जन्मे, शिक्षित-दीक्षित अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डॉ. लोकेश मुनि ‘सर्वश्रेष्ठ अध्यात्मिक गुरु’, ‘विश्व शांति सम्मान’ एवं ‘परमश्री’ अवार्ड से सम्मानित होने के बाद पहली बार एक दिवसीय राजस्थान प्रवास के दौरान रविवार को जोधपुर पहुंचे। यहां उनका विभिन्न संस्था-संगठनों द्वारा जोरदार स्वागत किया गया।

इस अवसर पर आचार्य डॉ. लोकेश मुनि ने कहा कि पर्यावरण प्रदूषण की तरह वैचारिक प्रदूषण भी बहुत खतरनाक होता है। धर्म हमें जोडऩा सिखाता है तोडऩा नहीं। धर्म में राजनीति का प्रवेश नहीं होना चाहिए लेकिन राजनीति सदैव धर्म से प्रभावित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि धर्म को समाज सेवा व शिक्षा से जोडक़र उसे समाज उत्थान का मार्ग बनाना वर्तमान की आवश्यकता है। सभी भारतवासियों का दायित्व है कि पे एकजुट होकर देश के विकास के लिए कार्य करे। देश की राजनीति में हर नागरिक की अहम् भूमिका है। शीघ्र ही राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने जा रहे है। एेसे में मतदाता कर्मठ, ईमानदार और राष्ट्रभक्त प्रत्याशी को वोट दें। एक ईमानदार और कर्मठ प्रतिनिधि ही समाज और देश को विकास के मार्ग पर ले जा सकता है। वोट देकर सही उम्मीदवार को विजयी बनाना हमारा दायित्व है। उन्होंने कहा कि राजनैतिक दल अपने स्वार्थ की पूर्ति के लिए चुनाव के समय साम्प्रदायिक कट्टरता और जातिवादी जुनून को उभारते है जिससे हमारा लोकतंत्र कमजोर होता है। हमें इस चक्कर में नहीं पडऩा है। भारत बहुलतावादी संस्कृति का देश है। अनेकता में एकता इस देश की मौलिक विशेषता है। सभी देशवासी मिलजुलकर सौहार्द के साथ सर्व धर्म सद्भाव की भावना को आगे बढ़ाते है। इसलिए हमें बहुलतावादी संस्कृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए सदैव जागरूक रहना है।  सकारात्मक सोच से मनुष्य और समाज को प्रगति की राह पर चलने की ऊर्जा मिलती है। आज समाज अनेक विकृतियों का सामना कर रहा है। असंतुलित जीवन शैली से समाज में अनेक विकृतियां उत्पन्न हो गयी है। समाज में भाईचारा, सद्भावना व शांति की स्थापना में सकारात्मक पत्रकारिता अहम भूमिका निभा सकती है।

कई अवार्डों से सम्मानित होने के बाद पहली बार जोधपुर पहुंचे आचार्य डॉ. लोकेश मुनि का जोरदार स्वागत

इन्होंने किया स्वागत

इस अवसर पर आचार्य लोकेश का विभिन्न राष्ट्रीय व अन्तरराष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित होने के बाद पहली बार जोधपुर पधारने पर कई संस्थाओं की ओर से स्वागत किया गया। राजस्थान सरपंच संघ के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष जितेन्द्र कुमार सेढिया, जैन मन्दिर गुरों का तालाब के पूर्व अध्यक्ष जतनराज कोठारी, अहिंसा विश्व भारती जोधपुर के कोर्डिनेटर अशोक अबाणी, महेश धारीवाल सहित कई लोगों ने उनकी अगवानी व स्वागत किया।