प्रशासक ने पर्यटक स्थलों के सौंदर्यीकरण हेतु पर्यटन विकास निगम लिमिटेड के साथ की बैठक

प्रशासक ने पर्यटक स्थलों के सौंदर्यीकरण हेतु पर्यटन विकास निगम लिमिटेड के साथ की बैठक | Kranti Bhaskar
संघ प्रदेश दमण-दीव तथा दादरा एवं नगर हवेली के प्रशासक प्रफुल पटेल इनदिनों दीव दौरे पर है. वह इस दौरान दीव प्रदेश के विभिन्न स्थलों का जहां भ्रमण कर जानकारी प्राप्त कर रहे है वहीं विकासीय कार्यों का भी जायजा ले रहे है. इसी क्रम में प्रशासक प्रफुल पटेल ने गुरुवार को पयर्टन विकास निगम लिमिटेड तथा प्रशासन के अधिकारियों के साथ  अहम बैठक की. इस बैठक में पर्यटन विकास निगम लिमिटेड द्वारा पावर प्वाइंट प्रजेेंटेशन प्रस्तुत किया गया. इस प्रजेंटेशन के माध्यम से दीव के पर्यटक स्थलों को किस प्रकार सुंदर बनाया जाये, इस बाबत चर्चा हुई. प्रशासक ने बहुत ही तन्मयता से एक-एक बिन्दुओं और सुझावों को ध्यान से देखा और सुना. इस मौके पर प्रशासक प्रफुल पटेल ने कहा कि अगले 10 साल में दीव कैसा हो इसे ध्यान में रखते हुए दीव का विकास किया जाये. लाईट एंड साउंड-शो भी इस प्रकार का हो जो दीववासियों के साथ-साथ पर्यटकों को आकर्षित करें. इस शो में आईएनएस खुकरी, नायड़ा की गुफा, दीव के मशहूर किला एवं चर्च के इतिहास को भी दर्शाया जाये. उल्लेखनीय है कि प्रशासक का मुख्य ध्यान दीव को विश्व स्तरीय पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने का है. इसी को केन्द्र में रखकर प्रशासक, विभिन्न एजेंसियों से बैठकें कर रहे हैं और सुझाव प्राप्त कर रहें. गुरुवार को भी पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन का मुख्य उद्देश्य भी यहीं था. बता दें कि पर्यटन विकास निगम लिमिटेड भारत की एक स्वतंत्र रूप से कार्य करने वाली संस्था है और यह संस्था अपनी विकास योजनाओं और क्रियाकलापों के लिए ख्याति प्राप्त संस्था है. प्रशासक के साथ इस संस्था की हुई बैठक से निश्चय ही दीव के पर्यटक स्थलों का कायाकल्प होगा ऐसी आशा व्यक्त की गयी.
इस बैठक के बाद प्रशासक प्रफुल पटेल ने दूसरी बैठक की. जिसमें दीव एयरपोर्ट को अंतर्राष्ट्रीय स्तर का एयरपोर्ट बनाने पर चर्चा की गयी. बैठक में प्रशासक ने कहा कि दीव एयरपोर्ट को उच्च श्रेणी का बनाया जाये. अगले 10 साल और उसके बाद आने वालों सालों में दीव एयरपोर्ट पर यात्रियों के लिए क्या-क्या अत्याधुनिक सुविधायें तथा सुरक्षा होनी चाहिए इसे ध्यान में रखकर दीव एयरपोर्ट का प्लान बनायें और तदोपरांत इसका विकास और विस्तार करें. उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट इस प्रकार का हो कि इस पर बोईंग विमान भी उतर सके. सड़कों को रिलोकेट करने की भी बात कही जिससे कि रन-वे और एयरपोर्ट के विस्तार किया जा सके. इसके साथ ही यात्रियों को यात्रा के दौरान दीव का ब्रोशर दिया जाये, जिसमें दीव के पर्यटकों स्थलों की खुबसूरती का संक्षिप्त विवरण हो. उन्होंने ने लाईट एंड साउंड-शो के दौरान भी टिकट के साथ दीव का ब्रोशर देने की बात कही.
इसके अलावा प्रशासक ने खोड़ीधार बीच और नागवा बीच के विकास और इसे आकर्षक बनाने हेतु भी एक बैठक की. इस बैठक में पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन प्रस्तुत किया गया और विविध सुझाव दिये गये. उन्होंने सारे सुझावों और प्रजेंटेशन पर गौर करते हुए कहा कि नागवा बीच को शादी समारोह के लिए भी उपयुक्त कैसे बनाया जा सकता है, इस पर विचार किया जाये. आज विश्व में कई जगहों पर बीच वेडिंग होती हैं. फिर दीव के नागवा में ऐसा क्यों नहीं हो सकता है? उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि दीव जिला के विविध पर्यटक स्थलों के आस-पास के क्षेत्रों को इको फ्रेंडली तरीके से विकसित करें ताकि दीव का विकास इस प्रकार किया जाये कि पर्यटक अनायास ही दीव खींचे चले आये. भारत के गंतव्य स्थलों में से दीव एक गंतव्य स्थल बनें इसके लिए समूचित प्रयास किये जाये. विश्व के मानचित्र पर दीव एक पर्यटक स्थल के रूप में स्थापित हो, इसके लिए प्रशासक का यह अहम प्रयास जारी है और ऐसी आशा है कि प्रशासक के प्रयासों से आने वाले वर्षों में दीव निश्चय ही विश्व के मानचित्र पर एक मुख्य पर्यटक स्थल के रूप में स्थापित होगा. उपरोक्त बैठकों में दीव प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों की भी उपस्थिति रही.