प्रशासक प्रफुल पटेल का सराहनीय प्रयास, दानह के विकास हेतु 100.50 करोड़ की अतिरिक्त राशि

मुक्ति दिवस के जश्न में सराबोर रहा संघ प्रदेश, हर्षोल्लास से मनाया गया 64वां मुक्ति दिवस | Kranti Bhaskar image 1
Praful Patel, dadra nagar haveli liberation day
सिलवासा : संघ प्रदेश दमण-दीव के बाद अब दादरा एवं नगर हवेली को भारत सरकार द्वारा 100.50 करोड़ रूपये की अतिरिक्त राशि आवंटित की गयी है. जिससे दादरा एवं नगर हवेली के चहुंमुखी विकास का मार्ग प्रशस्त होगा. दरअसल यह संघ प्रदेशों के प्रशासक प्रफुल पटेल के निरंतर अथक प्रयासों का नतीजा है कि दमण एवं दीव के बाद दादरा एवं नगर हवेली को भी वार्षिक योजना 2017-18 के तहत भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, नई दिल्ली के योजना जोन ने 100.50 करोड़ रूपये की अतिरिक्त राशि के आवंटन की अनुमति प्रदान की है.
दादरा एवं नगर हवेली में आवागमन को बेहतर बनाने और राजमार्ग संख्या एनएच848 ए पर 16.40 किलोमीटर सड़क को चौड़ा करने, हाई-लेवल ब्रिजों एवं पिपरीया, नरोली और खानवेल मार्ग पर तीन फलाई-ओवर ब्रिजों को बनाने के लिए भारत सरकार के सड़क-परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, नई दिल्ली ने संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली को पहली बार वार्षिक योजना में 2017-18 के बजट के तहत 100.50 करोड़ रूपये की अतिरिक्त राशि हेतु मंजूरी प्रदान की है. अब तक  आवंटित राशि से ही इस प्रदेश का विकास कार्य किया जाता रहा है परन्तु अब अतिरिक्त बजट आवंटन से आने वाले समय में दानह के विकास का कार्य कारगर तरीके से तीव्रता के साथ संपादित होगा.
ज्ञात हो कि दानह में एन.एच.848ए पर सड़क को चौड़ा करने की मांग लंबे समय से चली आ रही थी. मार्ग के संकीर्ण होने की वजह से लोग इस राजमार्ग का समूचित उपयोग नहीं कर पा रहे थे. दानहवासियों को होने वाली कठिनाईयों और लंबे समय से सड़क चौड़ीकरण की मांग को ध्यान में रखते हुए तथा दानह के आप्टी और खड़ोली स्थित हाई-लेवल ब्रिजों के साथ-साथ पिपरीया, नरोली और खानवेल मार्ग पर फलाई-ओवर ब्रिजों के निर्माण के लिए संघ प्रदेश के प्रशासक प्रफुल पटेल ने स्वयं इसकी जिम्मेदारी अपने कंधों पर लेते हुए गत वर्ष सितम्बर माह में केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितीन गड़करी और परिवहन राज्यमंत्री मनसुख मंडाविया से इस मुद्दे पर चर्चा की और उसके उपरांत निरंतर उनका ध्यान इस ओर आकृष्ट करते रहे. इसके अलावा प्रशासक के अनवरत प्रयासों को नितीन गड़करी और मनसुख मंडाविया का भी व्यापक समर्थन मिला. यह उपलब्धि प्रशासक के अथक प्रयास और ढृढ़ संकल्प का ही परिणाम है, क्योंकि उन्होंने इस बाबत मंत्रालय को अनवरत पत्र लिखे और इन निर्माण कार्यों के लिए अपनी प्रतिबद्धता दिखायी.
ज्ञात हो कि दानह आदिवासी बाहुल्य प्रदेश है. यहां की जनता मुख्य रूप से कृषि और उद्योग-धंधों पर आधारित है. सड़क के चौड़ीकरण और हाई-लेवल ब्रिजों के साथ-साथ पिपरीया, नरोली और खानवेल मार्ग पर तीन फलाई-ओवर ब्रिजों के निर्माण से इस प्रदेश में यातायात के साधन और अधिक सुलभ हो सकेंगे. इससे प्रदेश के आर्थिक विकास को तो गति मिलेगी ही साथ ही आम लोगों को दैनिक कार्यकलापों में सहूलियत भी होगी.
यह भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संघ प्रदेश दादरा एवं नगर हवेली के प्रति गहरे लगाव और दूरदर्शी नजरिये का सकारात्मक परिणाम है कि इस संघ प्रदेश के तीव्र विकास का मार्ग प्रशस्त हो पाया है.