बीएसएफ के 461 नवारक्षकों ने ली देश सेवा की शपथ, बैच नंबर 228, 229 एवं 230 की दीक्षांत परेड समारोह का आयोजन

0
17
जोधपुर। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के नवारक्षकों के दीक्षांत समारोह का आयोजन शुक्रवार को सहायक प्रशिक्षण केंद्र में आयोजित किया गया। समारोह के दौरान सहायक प्रशिक्षण केंद्र सीमा सुरक्षा बल के चंदनसिंह चंदेल ग्राउंड में बैच नंबर 228, 229 एवं 230 के 461 नवारक्षकों ने देश सेवा, भारतीय संविधान के प्रति कत्र्तव्यनिष्ठ होकर देश की एकता व अखंडता को कायम रखने की शपथ ली।
सीमा सुरक्षा बल के सहायक प्रशिक्षण केंद्र के महानिरीक्षक कुलदीप सैनी की अगवानी में मुख्य अतिथि राजस्थान सीमांत मुख्यलय के महानिरीक्षक अनिल पालीवाल ने नवारक्षकों की परेड का निरीक्षण किया एवं परेड की सलामी ली। इस अवसर पर उन्होंने नवारक्षकों को संबोधित करते हुए उन्हें ईमानदारी एवं निष्ठापूर्वक कत्र्तव्य पालन करने का आह्वान किया। साथ ही देश में बढ़ते नक्सलवाद एवं आतंकवाद से लडऩे के लिए तैयार रहने के लिए कहा। उन्होंने मानव मूल्यों को महत्व देते हुए कत्र्तव्य परायणता की शिक्षा दी। इसके साथ ही परेड के सफल आयोजन के लिए सहायक प्रशिक्षण केंद्र की ट्रेनिंग टीम को बधाई दी।
उत्कृष्ठ प्रदर्शन पर दिए पदक
दीक्षांत समारोह में परेड निरीक्षण के बाद प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने वाले नवारक्षकों को पदक प्रदान कर पुरस्कृत व सम्मान किया गया। इसमें मुख्य रूप से नवारक्षक बलाई दत्ता को आेवर ऑल प्रथम, रूप्यान विश्वास को परेड कमांडर बेस्ट ड्रिल व मोलोय विश्वास को बेहतर प्रदर्शन के लिए पदक प्रदान कर पुरस्कृत किया गया। इसके साथ ही बीएसएफ के सात सेवानिवृत्त कार्मिकों को उनके सराहनीय कार्यों के लिए प्रदान किए गए पुलिस मेडल फॉर मेरिटोरियस सर्विस से भी सम्मानित किया गया।
शारीरिक प्रदर्शन किया
दीक्षांत परेड समारोह के दौरान नवारक्षकों ने अतिथियों और वहां उपस्थित जनसमूह के सामने शारीरिक प्रदर्शन भी किया। इस प्रदर्शन के दौरान उन्होंने प्रशिक्षण काल में सीखे कई तरह के करतब दिखाकर वहां उपस्थित लोगों को अचंभित कर दिया। इन नवारक्षकों ने यहां कई तरह के करतब दिखाए। उन्होंने अस्त्र-शस्त्रों के साथ करतब दिखाए।
यह थे कार्यक्रम में उपस्थित
द्वितीय कमान अधिकारी (डब्ल्यूटी) एमएस झा ने बताया कि कार्यक्रम में उपमहानिरीक्षक (सामान्य) रवि गांधी, एमसी शर्मा, केएस राजावत, डॉ. डीपी पटनायक, कमांडेंट जेएस नेगी के साथ ही बीएसएफ, पुलिस आईटीबीपी व अन्य विभाग के अधिकारी, जवान और उनके परिजन उपस्थित थे।