बेटियों ने फिर मारी बाजी, सीबीएसई बारहवीं कला, वाणिज्य और विज्ञान वर्ग के नतीजे घोषित, नोएडा की मेघना श्रीवास्तव ने किया टॉप

44

जोधपुर/अजमेर। सीबीएसई ने बारहवीं कला, वाणिज्य और विज्ञान वर्ग का नतीजा किया जारी। देशभर में सीबीएसई से करीब 11 लाख विद्यार्थी रजिस्टर्ड है। हर बार की तरह इस बार भी 12वीं के नतीजों में लड़कियों ने बाजी मार ली है। नोएडा की मेघना श्रीवास्तव ने इस साल टॉप किया है और इतना ही नहीं टॉप 3 में सभी लड़कियां ही हैं। मेघना 499 अंक हासिल कर पहले पायदान पर जगह बनाई है तो वहीं दूसरे नंबर की छात्रा अनुष्का चंद्रा को 498 नंबर हासिल हुए है। इसके अलावा इस बार का रिजल्ट 83.01 फीसद रहा है, जो पिछले साल के 82.02 फीसदी से लगभग 1 फीसद ज्यादा है। अजमेर रीजन में 1 लाख 43 हजार विद्यार्थी ने परीक्षा दी है।

सीबीएसई की बारहवीं की परीक्षा में जोधपुर के लगभग 25 स्कूलों के तीन हजार विद्यार्थियों ने परीक्षाएं दी थी। सीबीएसई में संकाय का कोई प्रावधान नहीं होता है। रिजल्ट घोषित होने के बाद सभी स्कूल नेट पर रिजल्ट सर्च करने में जुटे रहे। वहीं विद्यार्थियों में कई दिनों से रिजल्ट घोषित होने की दिनांक को लेकर लग रहे कयासों पर विराम लगा।  अजमेर रीजन के तहत राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात और दादर नागर हवेली के स्कूल का परिणाम घोषित हुआ। कला, वाणिज्य और विज्ञान वर्ग में 1 लाख 43 हजार 228 विद्यार्थी पंजीकृत थे।

श्रेणीवार परिणाम

बारहवीं के कला, वाणिज्य और विज्ञान के नतीजों में सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों का परिणाम पिछले साल 86.10 प्रतिशत अधिक रहा। तरह अनुसूचित जाति वर्ग के विद्यार्थियों का परिणाम गत वर्ष 81.20 प्रतिशत रहा। इनमें छात्रों का परिणाम 79.50 और छात्राओं का 83.90 प्रतिशत रहा। अनुसूचित जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों का परिणाम 78.10) रहा। इस वर्ग में छात्राओं का परिणाम 80.70 और छात्रों गत वर्ष 76.30) प्रतिशत रहा। पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों का कुल परिणाम गत वर्ष 80.70) प्रतिशत रहा। इनमें छात्रों का परिणाम 77.40 और छात्राओं का गत वर्ष 86.30) प्रतिशत रहा।

10वीं का रिजल्ट 2 दिन में

12वीं के बाद अब 10वीं के रिजल्ट की बारी है। 10वीं क्लास का रिजल्ट अगले 2 दिनों में आने की संभावना है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 10वीं का रिजल्ट 28 या फिर 29 मई को घोषित किया जा सकता है। बता दें कि पिछले साल भी 12वीं का रिजल्ट मई के आखिरी हफ्ते में ही घोषित किया गया था। इस साल सीबीएसई 10वीं और 12वीं की परीक्षा में करीब 28 लाख छात्र बैठे थे। 12वीं की परीक्षा में ही 16,38,420 छात्र बैठे थे।