केंद्र में भाजपा को कोसने वाली भाजपा के समर्थन से दमन जिला पंचायत में कांग्रेस की सत्ता। भाजपा के पहियों पर कांग्रेस की गाड़ी…

  • दल-बदलू नेताओं के सहारे टिकी हुई, केतन पटेल की राजनीतिक रियासत। 
  • कांग्रेस की सिर्फ एक सीट होने के बाद भी जिला पंचायत पर कांग्रेस का कब्जा।

संध प्रदेश दमन की राजनीति में शायद ही ऐसा दिन आया होगा, की भाजपा के नाम पर जनता से वोट लेने के उपरांत, भाजपा से जीते हुए सदस्यों ने कांग्रेस को समर्थन देने की भूमिका निभाई गई हो। लेकिन दमन संध प्रदेश के दमन का जिला पंचायत कुछ इसी आलम में देखी गई। यहां केतन पटेल की कांग्रेस से जीती हुई एक सीट को जहां निर्दलयों से समर्थन मिला वहीं भाजपा सदस्यों से भी समर्थन बताया जाता है। जिला पंचायत में भाजप कांग्रेस के इस तालमेल से जहां भाजप शर्मशार होती दिख रही है वहीं जनता के विकास की बात करने वाले नेताओं की इस नीति से जनता को मुह मोड़ते देखा गया। बताया जाता है दमन जिला पंचायत के 11 सीटों में से 5 सीटे भाजपा की है, तो 5 निर्दलयों की, और मात्र एक सीट कांग्रेस की बताई जाती है। फिर भी जिला पंचायत की सरकार कांग्रेस के पक्ष होना, तथा मात्र एक कांग्रेस की सीट के दम पर केतन पटेल का जिला पंचायत अध्यक्ष बनना यहां की कुत्सित राजनीति की पोल खोलती है।

ये भी पढ़ें-  अजब गज़ब घोटाला, "अंधेर नागरी चोपट राजा" DMC की वेबसाइट पर DMC प्रमुख का नाम ही बदल डाला!

इसके अलावे जिला पंचायत अध्यक्ष केतन पटेल के बाद दूसरे नंबर की ज़िम्मेदारी पर नवीन पटेल बताए जाते है, उक्त जिला पंचायत में नवीन पटेल को उप प्रमुख का कुर्सी दिया गया है, हालांकि उक्त उप प्रमुख का पद किस कारण दिया गया, इस मामले में किसी प्रकार की टिप्पणी फिलवक्त मुमकिन नहीं, लेकिन उक्त पंचायत में कांग्रेस के अध्यक्ष और भाजपा के उपाध्यक्ष का तालमेल कांग्रेस के साथ साथ भाजपा की राजनीतिक पोल भी खोलती है। इस मामले में आम जनों की माने तो भाजपा अपनी पांच सीटों के दम पर तथा निर्दलीय सदस्यों के समर्थन से जिला पंचायत की सत्ता अपने हाथ कभी भी ले सकती है, लेकिन उक्त मामले में भाजपा की चुप्पी और जिला पंचायत के अध्यक्ष पद पर केतन पटेल के राज का क्या कारण है इसका भी खुलासा जल्द क्रांति भास्कर करेगी।