मैथन और कल्याणश्वरी मन्दिर क्षेत्र के व्यवसायी झेल रहे कोरोना महामारी की मार

आसनसोल: मैथन और कल्याणश्वरी मन्दिर क्षेत्र के व्यवसायी मार्च से ही लॉक डाउन का सामान कर रहे हैं। वही अनलॉक होने के बाउजूद क्षेत्र में पर्यटक नही आ रहे है। जबकि क्षेत्र की आधे से अधिक लोगो का रोजगार का साधन पर्यटन ही है। लगभग छः महीनो से क्षेत्र में पर्यटक नही आ रहे हैं। ऐसे में मैथन और कल्याणश्वरी मन्दिर के पुजारी से लेकर दुकानदार, ऑटो चालक, नोका चालक, होटल व्यवसायी सभी चिंतित है।

ये भी पढ़ें-  शिकायतकर्ता तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं के बाद, अब निष्पक्ष पत्रकारिता पर भी बढ़ता दबाव, चिंता का विषय!

कल्याणश्वरी मन्दिर के एक दुकानदार ने अपनी ब्यथा सुनते हुए कहा कि जीवन मैं जितना भी बचाया था उसी से गुजार कर राह हूँ। मेरे जीवन के लम्बे समय में अभी तक ऐसा समय नही देखा। बहुत कठिन समय है।

वही मन्दिर के पुजारी ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण मन्दिर में कोई श्रद्धालु नही आ रहे है जिससे हमें अपने परिवार को चलाने में बहुत कठिनाई हो रही है।

ये भी पढ़ें-  खामोर में पल्स पोलियों अभियान के तहत दो बूंद जिंदगी की खुराक पिलाई।

मैथन टूरिस्ट नोका बिहार के नाविक ने कहा कि कोरोना महामारी की वजह से हम एकदम आर्थिक रूप से अपंग हो गए है। लगभग 6 महीनो से किस तरह अपने परिवार को चला रहे हैं हम लोग ही जानते है।

ये भी पढ़ें-  अब बर्गर-नूडल्स के साथ कप, प्लेट और चम्मच भी खा सकेंगे लोग

होटल एसोसिशन के सचिव मनोज तिवारी ने बताया कि क्षेत्र में बहुत सारे होटल है जिसके आय का एकमात्र साधन टूरिस्ट है । कोरोना महामारी की वजह से क्षेत्र के सभी होटल खाली पड़े है। और जबतक कोरोना पर काबू नही पाया जाता तब तक टुरिस्ट के आगमन पर सवाल है।