वकीलों की हड़ताल हुई बेमियादी, रैली निकाली, नई सडक़ चौराहा पर बनाई मानव श्रृंखला, न्यायिक कार्यों के लगातार बहिष्कार से अदालती कामकाज ठप

40
जोधपुर। उदयपुर में हाईकोर्ट की बेंच के लिए राज्य सरकार की ओर से कमेटी बनाने के विरोध में जोधपुर के वकीलों ने बुधवार से न्यायिक कार्यों का अनिश्किालीन बहिष्कार शुरू कर दिया। हालांकि यहां के वकील सोमवार से ही हड़ताल पर है। अब उन्होंने मांग पूरी नहीं होने तक न्यायिक बहिष्कार के एेलान किया है। बुधवार को वकीलों ने रैली निकाली और नई सडक़ पर मानव श्रृंखला बनाकर प्रदर्शन किया। वहीं वकीलों की इस हड़ताल से अदालतों में न्यायिक कार्य पूरी तरह से ठप हो गया है।
राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट्स एसोसिएशन एवं लॉयर्स एसोसिएशन के आह्वान पर जोधपुर के वकील बुधवार को भी हड़ताल पर रहे। अब यह हड़ताल अनिश्चितकाल के लिए मांग पूरी नहीं होने तक जारी रहेगी। वकील आज सुबह हाईकोर्ट परिसर में एकत्रित हुए और यहां से रैली निकाली। रैली हाईकोर्ट रोड होते हुए नई सडक़ चौराहा पहुंची जहां वकीलों ने मानव श्रृंखला बनाकर अपनी मांग को दोहराया। इससे पहले वकीलों ने हाईकोर्ट के समक्ष भी अपनी मांगों को लेकर नारेबाजी व प्रदर्शन किया। राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रणजीत जोशी ने बताया कि उदयपुर में बेंच के लिए गठित कमेटी को भंग करने की मांग पूरी नहीं होने तक न्यायिक कार्यों का बहिष्कार जारी रहेगा। रैली में एसोसिएशन के उपाध्यक्ष कपिल बोहरा, सहसचिव दिलिप शर्मा, कोषाध्यक्ष पुखराज गोदारा, लायर्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष जितेन्द्रसिंह खींची, महासचिव दिपेश बेनिवाल, वरिष्ठ अधिवक्ता आंनद पुरोहित, नीलकमल बोहरा, हस्तीमल सारस्वत, अर्जुनराम चौधरी, प्रकाश चौधरी, निम्बाराम चौधरी, डीके गौड़, मालमसिंह राठौड़, मांगीलाल विश्नोई, रिडमलखान मेहर, करूणानिधि व्यास, एनडी निम्बावत, शकुन्तला मेहता, करणसिंह राजपुरोहित, पुष्पेन्द्र त्रिवेदी, श्यामसिंह गादेरी, अर्पित भूत, कपिल बिस्सा, संजीव व्यास सहित सैकड़ों अधिवक्ता उपस्थित थे।
अदालतों में नहीं दी उपस्थिति
वकीलों के दोनों संगठनों राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट्स एसोसिएशन एवं लॉयर्स एसोसिएशन से जुड़े वकीलों ने बुधवार को भी अदालतों में उपस्थिति नहीं दी। वकीलों का न्यायिक कार्यों का बहिष्कार बुधवार को भी जारी रहा जिससे यहां न्यायिक कार्य ठप पड़ गए है। वकील संगठनों के पदाधिकारियों ने बताया कि हाईकोर्ट की बेंच का मुद्दा केवल अधिवक्ताओं का नहीं है, बल्कि पूरे मारवाड़ की प्रतिष्ठा से जुड़ा हुआ है। इस आंदोलन को जन-आंदोलन के रूप में ही चलाया जाएगा।
आज से दिया जाएगा धरना
राजस्थान हाईकोर्ट एडवोकेट्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष कपिल बोहरा ने बताया कि गुरुवार से राजस्थान हाईकोर्ट परिसर में बेमियादी धरना शुरू किया जाएगा। यह धरना भी मांग पूरी नहीं होने तक न्यायिक कार्यों के बहिष्कार की तरह लगातार जारी रहेगा।
जनप्रतिनिधियों ने दिया समर्थन
आंदोलित अधिवक्ताओं को मारवाड़ के जनप्रतिनिधियों ने भी समर्थन दिया है। राजस्थान सीड्स कॉरपोरेशन अध्यक्ष शंभूसिंह खेतासर, संसदीय सचिव भैराराम सिओल, फलोदी विधायक पब्बाराम विश्नोई ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर हाईकोर्ट के टुकड़े नहीं करने और उदयपुर बेंच के लिए गठित समिति को तत्काल भंग करने की मांग की। केंद्रीय विधि राज्यमंत्री पीपी चौधरी, जोधपुर सांसद और केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री गजेंद्रसिंह शेखावत, राज्यसभा सदस्य नारायण पंचारिया पूर्व में ही मारवाड़ के वकीलों की मांग को लेकर समर्थन जाहिर कर चुके है।