पहले दिन ही एक्शन में दिखे जेएनवीयू के नए वीसी

जोधपुर। जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय के नये कार्यवाहक कुलपति कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बीआर चौधरी ने गुरुवार को कार्यभार संभाल लिया। जेएनवीयू में कार्यवाहक कुलपति के ज्वॉइनिंग के पहले दिन ही वे एक्शन में दिखाई दिए। उन्होंने खुद के कार्यालय में ही गंदगी देखकर अधिकारियों को लताड़ लगाई और साफ सफाई के निर्देश दिए।

दरअसल गुरुवार को कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर बीआर चौधरी जेएनवीयू के कार्यवाहक कुलपति के रूप में कार्यभार संभालने हैड ऑफिस आए थे। यहां कुलपति कार्यालय के सामने गंदगी देख वे नाराज हो गए और अधिकारियों को लताड़ लगाई। उन्होंने कुलपति कक्ष के सामने बने केयर टेकर  कार्यालय के बाहर झाडिय़ां व गंदगी की भरमार देख अपनी गाड़ी रूकवाई और अधिकारियों को मौके पर बुलाया। फिर वहां साफ सफाई के निर्देश दिए। इसके साथ ही विश्वविद्यालय में लंबे समय से बंद पड़ी बायोमेट्रिक मशीन को भी दुरुस्त करवाने के लिए अधिकारियों को निर्देशित किया। बता दे कि पिछले दो माह में जेएनवीयू को दूसरे नए कार्यवाहक कुलपति की सेवाएं लेने का अवसर मिला है। अगस्त में भाजपा सरकार के समय कुलपति के रूप में नियुक्त हुए प्रोफेसर गुलाबसिंह चौहान के इस्तीफे के बाद बीकानेर वेटरनरी विवि के कुलपति प्रोफेसर विष्णु शर्मा को कार्यवाहक कुलपति की जिम्मेदारी सौंपी गई थी लेकिन प्रदेश के नए राज्यपाल एवं कुलाधिपति कलराज मिश्र ने प्रोफेसर शर्मा से यह चार्ज पुन: लेकर कृषि विश्वविद्यालय जोधपुर के कुलपति प्रोफेसर बीआर चौधरी को सौंप दिया।

विवि का किया दौरा

प्रोफेसर बीआर चौधरी ने कार्यवाहक कुलपति का कार्यभार ग्रहण करने के बाद वनस्पति विभाग का दौरा किया। विभागाध्यक्ष प्रो. पवन कुमार कसेरा ने साफा पहनाकर व विज्ञान संकाय के अधिष्ठाता प्रो. अशोक पुरोहित ने गुलदस्ता भेंट कर स्वागत किया। कुलपति प्रो. चौधरी ने अपने दौरे में विभिन्न लेबों में शोध गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की व गत पांच वर्षों में किए गए प्रकाशित शोध पत्रों को देखा। उन्होंने एमएससी व बीएससी की कक्षाओं का जायजा भी लिया व नियमित कक्षाओं के संचालन हेतु आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने अपने दौरे में छात्र-छात्राओं से फीडबैक लेकर थ्योरी व प्रायोगिक की कक्षाओं की गुणवत्ताओं पर प्रश्न किए। प्रो. चौधरी ने शोध कार्य के व्यापारीकरण से विश्वविद्यालय की आमदानी बढ़ाने हेतु सुझाव दिए। विभागीय दौरे के समय उन्होंने प्रधानाध्यापक प्रो. हुकम सिंह गहलोत, प्रो. हरचंद डागला, प्रो. सुनिता अरोड़ा, डॉ. ज्ञान सिंह, डॉ. प्रवीण गहलोत, डॉ. भानाराम गाडी, डॉ. संतोष कुमार, डॉ. शरद बिस्सा, डॉ. श्वेता झा, डॉ. निशा टाक, डॉ. खेता राम, डॉ. कामना शर्मा, डॉ. सुमन परिहार से उनकी लैबोरेट्री में शोध कार्य की प्रगति का फीडबैक लिया।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote