काला हिरण शिकार प्रकरण: शूटिंग में व्यस्त और जान का खतरा होने का दिया हवाला, अगली सुनवाई 19 दिसंबर को

जोधपुर। बहुचर्चित काला हिरण शिकार प्रकरण के आरोपी फिल्म अभिनेता सलमान खान और राज्य सरकार की ओर से पेश की गई अपीलों पर शुक्रवार को ग्रामीण जिला एवं सत्र न्यायालय में फिर सुनवाई हुई। इस दौरान सलमान खान पेशी पर कोर्ट में पेश नहीं हुए। सलमान के वकीलों ने हाजिरी माफी पेश की। इस हाजिरी माफी में शूटिंग कार्य में व्यस्त होने का हवाला दिया गया। सलमान की तरफ से कोर्ट में बताया गया कि वे शूटिंग में व्यस्त है। साथ ही उन्हें एक गैंगस्टर की तरफ से जान से मारने की धमकी भी दी हुई है। इस कारण आज कोर्ट में उपस्थित नहीं हो पाएंगे। ऐसे में उन्हें हाजरी माफी प्रदान की जाए। अदालत ने हाजिरी माफी प्रार्थना पत्र सही ढंग से नहीं लिखे होने के कारण एक बार लौटा दिया। इसके बाद अधिवक्ताओं की ओर से दुबारा हाजिरी माफी पेश की गई तब कोर्ट ने उसे स्वीकारते हुए 19 दिसंबर को अगली सुनवाई रखी है। न्यायाधीश द्वारा एक बार हाजिरी माफी लौटाए जाने पर सलमान के अधिवक्ताओं में बैचेनी देखने को मिली।

सुबह करीब 11.05 बजे सलमान के अधिवक्ता महेश बोड़ा तथा हस्तीमल सारस्वत कोर्ट रूम पहुंचे। इस दौरान कोर्ट रूम में अधिवक्ताओं के साथ अन्य व्यक्तियों का हुजूम उमड़ पड़ा। न्यायाधीश चंद्रकुमार सोनगरा ने अपील पर सुनवाई शुरू की। सीनियर अधिवक्ता बोड़ा ने कहा कि मीडिया के कारण यह मामला पेचीदा बनता जा रहा है। करीब 25 मिनट तक चली सुनवाई के दौरान सलमान के अधिवक्ता द्वारा पेश की गई हाजिरी माफी प्रार्थना पत्र में वाक्य सही तरीके से नहीं लिखे होने पर न्यायाधीश ने दोनों हाजिरी माफी अचानक लौटा दी इस पर सलमान के अधिवक्ताओं की बेचैनी बढ़ गई। अधिवक्ताओं द्वारा हाजिरी माफी में वाक्य को दुरुस्त करने पर न्यायाधीश ने करीब पांच मिनट तक हाजिरी माफी अपने हाथों में रखी तथा रीडर को नहीं दी। उसके बाद न्यायाधीश ने दोनों हाजरी माफी रीडर को दे दी। सुनवाई के दौरान सलमान के अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत ने कहा कि ट्रायल के दौरान सभी तथ्य पेश कर दिए गए थे तथा कोई सबूत नहीं है कि सलमान ने शिकार किया। ट्रायल कोर्ट द्वारा सलमान को गलत सजा दी गई है। अधिवक्ता महेश बोड़ा ने कहा कि मीडिया में तरह-तरह की खबरें आ रही है तथा मुंबई से फोन आ रहे है कि सलमान यदि आज उपस्थित नहीं हुआ तो उसकी हाजिरी माफी रद्द कर दी जाएगी। इस पर न्यायाधीश ने कहा कि इसके लिए कोर्ट जिम्मेदार नहीं है। अधिवक्ता बोड़ा ने कहा कि न्यायालय में अपील के दौरान अपीलार्थी को उपस्थिति के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता। सरकारी अधिवक्ता की ओर से विरोध करते हुए कहा कि आरोपी हर बार नए नए बहाने करके न्यायालय में उपस्थित नहीं हो रहा है। न्यायाधीश ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद सलमान की ओर से पेश हाजिरी माफी स्वीकार करते हुए अगली सुनवाई 19 दिसंबर के लिए निर्धारित की है।

कोर्ट ने हाजिर होने को कहा था

उल्लेखनीय है कि गत चार जुलाई को अधिवक्ता हस्तीमल सारस्वत और निशांत बोड़ा ने सलमान की ओर से हाजरी माफी की अर्जी पेश की थी। न्यायाधीश ने मौखिक टिप्पणी में मुव्वकिल के लगातार दस सुनवाई में अनुपस्थित रहने पर आज शुक्रवार को सुनवाई में हाजिर होने को कहा था। लॉरेंस विश्नोई गैंग से जुड़े सोपू संगठन ने गत दिनों सोशल मीडिया पर सलमान खान को धमकी दी थी। यह संदेश वायरल होने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की थी। बताया जा रहा है कि गैंगस्टर की तरफ से दी गई जान से मारने की धमकी के कारण सलमान आज जोधपुर नहीं आए। यही कारण रहा कि गत सुनवाई में सलमान की बार-बार हाजरी माफी के प्रति तल्ख रहे कोर्ट ने आज थोड़ा नरम रूख अपनाया। आज हाजरी माफी के साथ ही सलमान की तरफ से स्थाई हाजरी माफी की मांग की गई। इस आवेदन में कहा गया है कि पूर्व में भी जब-जब कोर्ट ने सलमान को बुलाया है वे हाजिर हुए है। भविष्य में यदि उन्हें फिर से बुलाया जाएगा तो वे कोर्ट के आदेश की पालना में हाजिर हो जाएंगे। ऐसे में उन्हें स्थाई हाजरी माफी प्रदान की जाए। इस पर कोर्ट ने आगामी 19 दिसम्बर को इस मामले की सुनवाई तिथि तय कर दी।

जान से मारने की मिली थी धमकी

जेल में बंद गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई गैंग से जुड़े एक शूटर ने काला हिरण शिकार में दोषी करार दिए गए फिल्म अभिनेता सलमान खान को जान से मारने की धमकी दी है। सोशल मीडिया पर जारी इस धमकी के मैसेज वायरल हो रहे है। स्टूडेंट ऑर्गेनाइजेशन ऑफ पंजाब यूनिवर्सिटी के ग्रुप सोपू के फेसबुक पेज पर गैरी शूटर ने सलमान खान के चित्र पर लाल क्रॉस लगाकर लिखा है कि सोच ले सलमान तू भारत के कानून से बच सकता है लेकिन विश्नोई समाज और सोपू की पार्टी के कानून ने तुझे मौत की सजा सुना दी है, सोपू की अदालत में तू दोषी है सलमान। गैंगस्टर लॉरेंस विश्नोई स्वयं इस ग्रुप से जुड़ा रह चुका है। कुछ माह पूर्व जोधपुर कोर्ट में पेश किए जाने के दौरान पुलिस की उपस्थिति में सलमान खान को मारने की खुलेआम धमकी दी थी। इसके बाद जोधपुर में पेशी पर आए सलमान को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान की गई थी।

यह है कांकाणी शिकार प्रकरण

गौरतलब है कि कांकाणी में दो काले हिरण शिकार के आरोप में मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जोधपुर जिला ने पांच अप्रेल 2018 को सलमान को पांच साल की सजा तथा दस हजार रुपए का जुर्माना लगाया था। सैफ अली खान, अभिनेत्री नीलम, तब्बू तथा सोनाली को बरी कर दिया था। सलमान खान तीन दिन केंद्रीय कारागार में रहा। फिर सत्र न्यायालय जोधपुर जिला ने सजा स्थगित कर सलमान को रिहा करने का आदेश दे दिया था। इसी सजा के खिलाफ जिला न्यायालय में अपील दायर कर रखी है। उधर सरकार ने बरी किए गए अन्य आरोपियों के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील पेश की। वहीं अवैध हथियार मामले में सलमान खान को बरी करने के खिलाफ भी राज्य सरकार ने इसी कोर्ट में अपील दायर कर रखी है। दोनों सुनवाई एक साथ चल रही है।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote