बाल संरक्षण में कोताही बर्दाश्त नहीं: बेनीवाल

जोधपुर। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल ने कहा है कि बाल संरक्षण हमारी पहली प्राथमिकता है तथा इस दिशा में किसी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। बेनीवाल जोधपुर सर्किट हाऊस में मीडिया से रूबरू थी।

उन्होंने बताया कि आयोग अध्यक्ष का पदभार ग्रहण किए उन्हें एक माह हुआ है। राज्य के सभी 33 जिलों में पहुंचने के हमारे संकल्प के तहत हम नियमित विभिन्न जिलों का दौरा करके समस्याओं की जड़ों पर आघात करेंगे। उन्होंने बताया कि बच्चियों से दुष्कर्म के मामलों पर आयोग भावुक है। इस दिशा में कदम उठाते हुए हाल ही में जयपुर में सामाजिक संगठनों के साथ गहन मंथन किया था इसमें करीब 50 संस्थाएं पूरे देश से आई थी। उन्होंने बताया कि हम आगामी कार्य योजना के तहत गुड टच-बैड टच के बारे के नुक्कड़ सभाएं करके बच्चों को जानकारियंा देंगे। वर्तमान में बाल श्रम पर भी नियंत्रित करने ढाबों, होटलों आदि पर बाल संरक्षण की टीम औचक रूप से पहुंचती है। बाल छात्रावासों में भी हम औचक निरीक्षण करते है तथा रसोईघरों में भी व्यवस्थाएं देखते है।

ये भी पढ़ें-  जनता कि जेब खाली, पेट खाली, ओर सरकार कर रही है खर्चे पर खर्चा, पढ़िए पूरी रिपोर्ट।

उन्होंनें बताया कि गत 26 जुलाई को जयपुर में राज्य स्तरीय कन्सलटेशन आयोजित कर आयोग ने बाल अधिकार क्षेत्र में कार्यरत विशेषज्ञों से सुझाव लिए है। विशेषज्ञों का दल आगामी 3 वर्षो की कार्य योजना को लेकर प्रयासरत है। मुख्यमंत्री द्वारा आयोग का विजन-मिशन डाक्यूमेन्ट जारी किया गया। इससे सभी हितधारकों को साथ लेकर मिशन मोड़ में और ज्यादा सक्रिय होकर कार्य करेगा।