लंदन जाने के लिए, दमन के राणा परिवार में 29 और 31 वर्ष के युवकों का जन्म!

लंदन जाने के लिए, दमन के राणा परिवार में 29 और 31 वर्ष के युवकों का जन्म! | Kranti Bhaskar
daman voter id

सही पते पर फर्जी वोटर कार्ड, क्या लंदन जाने की तैयारी?

संध प्रदेश दमन के राशन कार्ड और वोटर कार्ड से जुड़ा एक ऐसा मामला सामने आया है जो दमन के उन तमाम विभागो एवं विभागीय अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करता है जिनका ताल्लुख राशन कार्ड तथा वोटर कार्ड बनाने वाले विभागो से रहा।

मामला है, रितेश मनु राणा एवं हिमांशु मनु राणा के नाम से, हाउस संख्या 2-307 राणा स्ट्रीट नानी दमन के पते पर, बने वोटर कार्ड का। रितेश मनु राणा एवं हिमांशु मनु राणा ने वोटर कार्ड में, अपने पिता का नाम मनु मगन राणा बताया है तथा वोटर कार्ड में, हाउस संख्या 2-307 राणा स्ट्रीट नानी दमन का पता दिया गया है, वैसे मनु मगन राणा के राशन कार्ड तथा वोटर कार्ड के अनुसार यह पता मनु मगन राणा का ही है।

ये भी पढ़ें-  सुब्रतो मुखर्जी कप फुटबॉल टूर्नामेंट में खिलाडिय़ों ने दिखायी प्रतिभा

लेकिन मनु मगन राणा द्वारा 2010 में बनाए गए राशन कार्ड संख्या ND/55/239 में कही भी उन दोनों व्यक्तियों का नाम नहीं है जिनके वोटर कार्ड, मनु मगन राणा के पते पर बनाए गए। वैसे जानकारी यह भी मिली है की रितेश मनु राणा जिसका वोटर कार्ड संख्या PJG3293859 एवं हिमांशु मनु राणा जिसका वोटर कार्ड संख्या PJG3293867 के दोनों व्यक्ति मनु मगन राणा के पुत्र नहीं है तथा वह दोनों दमन में निवास भी नहीं करते। अब ऐसे में सवाल यह उठता है की यह दोनों व्यक्ति कोन है कहा से आए है और किस लिए, तथा किस प्रयोजन से उन्होने दमन के वोटर कार्ड बनवाए है, इन सभी सवालों के जवाब तलाशने के लिए दमन प्रशासन को इस मामले में तत्काल जांच करने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें-  प्रशासक और विकास आयुक्त की नजर में क्या यह एक ही काबिल अधिकारी है?

31 वर्ष और 29 वर्ष की उम्र में दो व्यक्तियों का जन्म दमन में कैसे हुआ?

इस पूरे मामले में चोकाने वाली बात यह है की जिन दो व्यक्तियों के वोटर कार्ड नानी दमन के जिस पते पर बने है उनमे से एक की उम्र 31 वर्ष और दूसरे की उम्र 29 वर्ष बताई गई है, अब भला यह तो मुमकिन नहीं लगता की सीधे 31 वर्ष और 29 वर्ष के दो बालकों का जन्म रातो रात हो गया हो!

ये भी पढ़ें-  प्रशासक प्रफुल पटेल ने ध्वजारोहण कर तिरंगे को दी सलामी

वही चोकाने वाली बात यह भी है की जिस पते पर वोटर कार्ड बने है उस पते पर वोटर कार्ड बनवाने के लिए उक्त दोनों व्यक्तियों ने सरकार को क्या दस्तावेज़ उपलब्ध कराएं, तथा अब तक उक्त वोटर कार्ड का इस्त्माल कर और कितने दस्तावेज़ बनवाए है।

इस मामले को देखकर यह आशंका भी जताई जा रही है की कही ऐसा तो नहीं की वोटर कार्ड के दम पर, उक्त दोनों व्यक्तियों ने लंदन जाने के लिए दमन से पासपोर्ट भी बनवाया गया हो? फिलवक्त तो केवल सवाल सामने आ रहे है लेकिन प्रशासन इस मामले में निष्पक्ष जांच करे तो इन तमाम सवालों के जवाब भी जल्द सामने आ जाएंगे।