असमंजस के बादल छंटे, पाक पहुंची थार एक्सप्रेस

जोधपुर। तमाम संशयों के बावजूद आखिरकार थार एक्सप्रेस शनिवार दोपहर 3.10 बजे पाकिस्तान पहुंच गई। इसी के साथ पिछले कुछ दिनों से छाये हुए असमंजस के बादल छंट गए और संशय निर्मूल साबित हुए। थार लिंक एक्सप्रेस शुक्रवार को जोधपुर के भगत की कोठी से रवाना हुई थी और यह ट्रेन सुबह मुनाबाव पहुंची थी। कस्टम और इमीग्रेशन क्लियरेंस के बाद यह ट्रेन दोपहर 2.30 बजे मुनाबाव से रवाना हुई थी। इधर पाकिस्तान ने भी थार एक्सप्रेस को बंद करने की घोषणा के बावजूद उसका संचालन जारी रखा गया। पाकिस्तान ने शुक्रवार रात अपनी ट्रेन को कराची से रवाना किया। पाकिस्तान में हो रही भारी बारिश के कारण ट्रेन तीन घंटे विलम्ब से सुबह साढ़ेे दस बजे बॉर्डर पर बने पाक के अंतिम रेलवे स्टेशन जीरो पॉइंट पर पहुंची। इसके बाद भारतीय रेलवे ने मुनाबाव से अपनी ट्रेन को सीमा पार जीरो पाइंट तक भेजा। वहां से 228 यात्रियों को लेकर यह ट्रेन मुनाबाव आएगी।

भारत सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद पाकिस्तान की बौखलाहट देखी जा रही है। पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रईस अहमद ने दो दिन पहले जिस थार लिंक एक्सप्रेस को बंद करने की घोषणा की थी, वह शनिवार सुबह पाकिस्तान के अंतिम ठहराव स्थल जीरो पॉइंट पर पहुंची। बताया गया है कि पाकिस्तान की इस ट्रेन को बंद करने की घोषणा सरकारी संदेश के रूप में रेलवे बोर्ड तक नहीं पहुंची तो रेलवे ने जोधपुर के उपनगरीय स्टेशन भगत की कोठी से शुक्रवार देर रात एक बजे थार एक्सप्रेस को पाकिस्तान के लिए रवाना कर दिया था। इस बार भारत से 84 पाकिस्तानी वतन लौटे तो 81 भारतीय भी अपनों से मिलने के लिए पाकिस्तान गए है। हालांकि ट्रेन के जाने और न जाने के असमंजस के बीच 17 यात्रियों ने ऐनवक्त पर टिकट रद्द भी करवाए थे। कुछ पाकिस्तानी ऐसे भी थे जो तय यात्रा पूरी करने से पहले ही लौट गए।

इस तरह हुआ संचालन

पाकिस्तान की ओर थार एक्सप्रेस को बंद करने की घोषणा की गई थी लेकिन पाकिस्तान ने थार को रोकने की हिमाकत नहीं की और संचालन जारी रखा। थार एक्सप्रेस से 165 यात्री पाकिस्तान पहुंचे। थार में पाकिस्तान से 228 यात्री वापस लेकर आएंगे। करीब तीन घंटे देरी से थार लिंक एक्सप्रेस पाकिस्तान के जीरो पॉइंट रेलवे स्टेशन पहुंच गई। इसमें सवार यात्रियों का कस्टम, इमीग्रेशन व जांच का कार्य प्रारंभ हुआ। दोपहर करीब तीन बजे मुनाबाव अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन पर राहत का कॉल आया। पाकिस्तान जीरो पॉइंट रेलवे ने इत्तला की कि अब भारत के यात्रियों को लेकर थार एक्सप्रेस आ जाए। कस्टम इमीग्रेशन पूरा कर दिया गया। इस खबर के आते ही सारे यात्रियों के चेहरे खिल गए और रेल को रवाना किया गया।

यात्रियों ने राहत की सांस ली

इससे पूर्व शनिवार सुबह जीरो पॉइंट (पाकिस्तान का अंतिम रेलवे स्टेशन) पर पाकिस्तान की ट्रेन के आने में विलम्ब होने के कारण मुनाबाव में खड़े यात्री घबरा गए कि अब उन्हें कहीं वापस न लौटना पड़े लेकिन तीन घंटे विलम्ब से इस ट्रेन के जीरो पॉइंट पर पहुंचने पर सभी ने राहत महसूस की। बताया जा रहा है कि कराची से खोखरापार तक पहुंचने के रास्ते में भारी बारिश के कारण इस ट्रेन को दो स्टेशनों पर तीन घंटे तक रोक कर रखा गया। इस कारण इसके जीरो पॉइंट तक पहुंचने में विलम्ब हो गया।

पाकिस्तान में बत्ती गुल

जीरो पॉइंट पर भारत आने वाले 228 यात्रियों के सामान की जांच शुरू होने के थोड़ी देर गाद बिजली चली गई। बिजली बंद होने के कारण जांच कार्य अटक गया। ऐसे में करीब तीन बजे जांच पूरी हो पाई। इसके बाद 3.10 बजे भारतीय ट्रेन ने सीमा पार की। अब यह ट्रेन पाकिस्तान के जीरो पाइंट से 228 यात्रियों को लेकर मुनाबाव आएगी। वहां से जोधपुर के लिए रवाना होगी।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote