किसानों की दी उन्नत तकनीक की जानकारी

जोधपुर। काजरी खेल मैदान में सोमवार को किसान मेला एवं कृषि नवाचार दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान यहां आए किसानों को कृषि की उन्नत तकनीकों की जानकारी दी। साथ ही प्रदर्शनी भी लगाई गई।

किसान मेले का उद्घाटन मुख्य अतिथि कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने फीता काटकर किया। उन्होंनें किसानों को सबोधित करते हुए करते हुए कहा कि राजस्थान में बाजरा फसल का उत्पादन क्षेत्र बहुत बड़ा है। इसके उत्पाद के बाजरा बिस्कुट, बाजरा कैक, आेटस आदि बनाकर अधिक आय प्राप्त की जा सकती है। राजस्थान में अनेक बहुमूल्यवान, औषधिय उपयोगी पेड़-पौधे खेजड़ी, नीम, आक, तुम्बा, ग्वारपाठा आदि पाए जाते है जिनके मार्केट की जानकारी प्राप्त कर, इनके उत्पाद को बेचकर इनकम बढ़ाई जा सकती है। कटाई उपरान्त, फल, सब्जियों के उत्पादन का पूरा उपयोग इसके लिए प्रोसेसिंग यूनिट लगाए, जिससे आय अधिक होगी। यहां के उत्पाद देश के बडे-बाजारों एवं विदेशो में निर्यात हो तथा इनकम बढ़े।

विशिष्ठ अतिथि जेडीए के पूर्व अध्यक्ष प्रो. महेंद्रसिंह राठौड़ ने कहा कि मरूस्थल में कृषि के विकास मे काजरी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। आईसीएआर के सहायक महानिदेशक डॉ. एसपी किमोथी ने कहा कि नवीनतम तकनीकियों को किसानों तक पहुंचाने के लिए केविक एवं अटारी द्वारा विस्तार गतिविधियां, तकनीकी हस्तांतरण कार्यक्रम चलाये जा रहे है। उन्होंनें पशुधन की उन्नत किस्मों उनसे अधिक दुग्ध उत्पादन लेने के बारे में जानकारी दी। काजरी निदेशक डॉ. आेपी यादव ने अतिथियों का स्वागत किया एवं संस्थान की शोध परियोजनाआें एवं उपलब्धियों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि तकनीकियां, ज्ञान, उन्नत बीज, प्रशिक्षण सुविधाएं, सरकारी की योजनाएं उपलब्ध है, किसान जागरूक बने, समन्वय बढ़ाये, आपकी पूरी सेवा के लिए संस्थान तत्पर है। विज्ञान आधारित खेती से लाभ निश्चित मिलेगा। कृषि विवि जोधपुर के कुलपति डॉ. बीआर चौधरी ने फसलों की उन्नत किस्मों के बारे में जानकारी दी। नाबार्ड महाप्रबन्धक सुरेशचन्द ने किसानों के लिए शिक्षा, चिकित्सा, कृषि, रोजगार आदि की योजनाआें, वित्तीय सुविधाआें के बारे में जानकारी दी। समाजसेवी विनोद आचार्य ने भी विचार व्यक्त किए। किसानों को शोध क्षेत्रों का भ्रमण करवाकर जानकारी दी। किसान संगोष्ठी में किसानों की समस्याआें का संमाधान किया गया।

इन किसान मित्रों का हुआ सम्मान

संस्थान की उन्नत तकनीकियां अपनाने तथा अन्यों को प्रोत्साहित करने के लिए मीरा देवी, अर्जुनराम, हरि सिंह, रतनलाल डागा, सीताराम, चम्पालाल, राजूराम मीणा, जगदीश प्रसाद पारीक को किसान मित्र सम्मान से सम्मानित किया गया। मेले में जवाहर लाल जांगिड़ द्वारा मेले में प्रदर्शित मुर्रा नस्ल का भैंसा किसानों के आकृषण का केन्द्र बना। मेला संयोजिका एवं विभागाध्यक्ष डॉ. प्रतिभा तिवारी ने मेले की गतिविधियों के बारे में जानकारी दी तथा धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर भारत सरकार, राजस्थान सरकार एवं अन्य संस्थाआें द्वारा प्रर्दशनी लगाकर जानकारी दी गई।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote