हिंदी दिवस पर हुए कई कार्यक्रम

जोधपुर। हिंदी दिवस पर शहरभर में कई कार्यक्रमों का आयोजन हुआ। स्कूल-कालेजों सहित कई संस्था-संगठनों और विभागों में भी कार्यक्रम हुए। इस अवसर पर स्कूलों में बच्चों को हिंदी का महत्व बताया गया।

कमला नेहरू महिला महाविद्यालय में हिंदी दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कॉलेज निदेशक प्रो. कैलाश कौशल ने बताया कि कार्यक्रम में अतिथियों ने हिंदी के महत्व पर प्रकाश डाला। वहीं शुष्क वन अनुसंधान संस्थान (आफरी) जोधपुर में हिन्दी सप्ताह-2019 का शुभारंभ किया गया। संस्थान के सहायक निदेशक (राजभाषा) कैलाश चन्द गुप्ता ने गृह मंत्री के संदेश को पढक़र सुनाया। उन्होंने बताया कि संस्थान में 19 सितंबर तक हिन्दी सप्ताह में विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित होगी। हिन्दी सप्ताह के शुभारंभ के अवसर पर आफरी के वरिष्ठ वैज्ञानिक जी सिंह ने कहा कि भारत की एकता को बनाये रखने के लिए राजभाषा की आवश्यकता को केवल हिन्दी ही पूर्ण करने में सक्षम है। कार्यक्रम में आफरी के समूह समन्वयक (शोध) डॉ. इन्द्रदेव आर्य ने वैज्ञानिक कार्यों में हिन्दी के अधिकाधिक उपयोग पर बल दिया। आफरी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. यूके तोमर ने बताया कि जिस प्रकार विकसित देश अपनी मातृभाषा को महत्व देते है उसी प्रकार हमें भी हिन्दी को बढ़ावा देना चाहिए। आफरी की मुख्य तकनीकी अधिकारी संगीता त्रिपाठी ने हिन्दी के प्राचीन, मध्यकालीन एवं आधुनिक इतिहास तथा हिन्दी भाषा की उत्पत्ति पर प्रस्तुतिकरण देकर प्रकाश डाला। आफरी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एमटी हेगडे ने बताया कि हिन्दी भाषा की उत्पत्ति देव भाषा संस्कृत से हुई है तथा हिन्दी सम्पूर्ण देश को जोडऩे का कार्य भी करती है। कार्यक्रम में अनिल शर्मा, सवाईसिंह राजपुरोहित ने भी हिन्दी भाषा पर अपने विचार रखें। इस अवसर पर राजभाषा हिन्दी पर एक लघु वृत्तचित्र भी दिखाया गया।

सेवियर्स एकेडमी सैंकंडरी स्कूल के प्रांगण में हिंदी दिवस का आयोजन धूमधाम से किया गया। इस अवसर पर बच्चों ने काव्य-पाठ, कविता-वाचन, हिंदी भाषा की शिक्षा में महत्व विषय पर वाद-विवाद तथा कहानियां प्रस्तुत की। कार्यक्रम का आरंभ प्रधानाचार्या रीता फ्रांसिस तथा अधिराज फ्रांसिस ने किया। बच्चों को हिंदी भाषा के महत्व से अवगत कराया गया कि हिंदी भाषा देश के गौरव को बढ़ाने वाली तथा हमारी आत्मीयता को उद्वेलित करने वाली भाषा है। इस अवसर पर बच्चों को पुरस्कृत कर उनका उत्साहवर्धन किया गया।

कमला नेहरू महिला महाविद्यालय एवं जेएनवीयू हिन्दी विभाग के संयुक्त तत्त्वावधान में हिन्दी दिवस का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आरंभ सरस्वती वंदना के साथ हुआ। कार्यक्रम का आगाज करते हुए प्रो. कैलाश कौशल निदेशिका कमला नेहरू महिला महाविद्यालय और अध्यक्ष हिन्दी विभाग ने शब्द- सुमनों के साथ अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि दशरथ कुमार सोलंकी ने हिन्दी भाषा के अक्षुण्ण गौरव एवं सम्मान पर अपना सारगर्भित उद््बोधन देते हुए काव्य-पाठ किया। दशरथ कुमार सोलंकी की पुस्तक कि आदमी का मरे नहीं पानी काव्य-संग्रह का भी इस आयोजन में विमोचन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता हिन्दी विभाग के सह आचार्य डॉ. नरेन्द्र मिश्र ने हिन्दी के इस जन्मदिवस पर हिन्दी को राजभाषा बनाने के सार्थक प्रयासों, इसकी विस्तृृत पृृष्ठभूमि, दशा-दिशा एवं स्थिति पर अपना व्याख्यान दिया। कार्यक्रम की विशिष्ट अतिथि डॉ. पदमजा शर्मा थी। इस अवसर पर मधुर परिहार, दीपा शारदा, छात्र प्रतिनिधि मण्डल की निर्वाचित अध्यक्ष प्रियंका सिंह नरूका, उपाध्यक्ष दीपिका कंवर, महासचिव खुशबु रांकावत और संयुक्त महासचिव अन्नु सागर आदि उपस्थित थी।

वहीं लक्की बाल निकेतन सीनियर सैकंडरी स्कूल में आज हिन्दी दिवस का आयोजन भी किया गया। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों ने हिंदी भाषा के विषय में कुछ रोचक तत्थ्य बताए। कक्षा छठी-अ की ग्रसी जैन ने हिंदी विषय की जानकारी देते हुए बताया कि आज 90 राज्य, अमेरिका में 45 राज्य सहित दुनिया के 176 विश्वविद्यालय एेसे हैं जहां हिंदी का अध्ययन करवाया जाता है। कुछ बच्चों ने हिंदी भाषा पर निबंध एवं कविताएं प्रस्तुत की। जिसमें कक्षा छठी-ब की छात्रा गरिमा चौधरी, हंसिका ओर खुशी खत्री ने अपनी कविताएं प्रस्तुत की।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote