लोक कलाकारों के निर्गुण गीतों की प्रस्तुतियों ने बांधा समां

जोधपुर। राजस्थान इंटरनेशनल फोक फेस्टिवल (रिफ 2019) के 12वें संस्करण के तीसरे दिन की शुरुआत मनभावन भजनों से हुई। यहां  जसवंत थड़ा पर लोककलाकारों ने जब निर्गुण गीतों की प्रस्तुति दी तो पूरे माहौल में समां बंध गया। इसके अलावा भी आज दिनभर लोक कलाकारों की अलग-अलग प्रस्तुतियों ने देशी-विदेशी मेहमानों का मन मोह लिया।

रिफ के तीसरे दिन की शनिवार को प्रात: 5.30 बजे जसवन्तथड़ा पर राजस्थान के बग्गा खान व गेमराराम द्वारा राजस्थान की निर्गुण गीतों की प्रस्तुति से शुरुआत हुई। यहां लोककलाकारों ने अपने निर्गुण गीतों के माध्यम से राजस्थान संस्कृति व सभ्यता को प्रस्तुत किया। इस पर वहां उपस्थित सभी मेहमान ने सराहना की। इसके बाद प्रात: नौ बजे चोखेलाव बाग में रिफ डांस बुटकेम्प प्रथम में हंगरी के पारम्परिक नृत्य की प्रस्तुति दी गई। कलाकारों ने शानदार प्रस्तुति देते हुए दर्शकों को लुभाए रखा।  प्रात: 11 बजे चोखेलाव बाग में ही इन रेजीडेंस प्रथम में मेवात एवं जोगी परम्पराओं में प्रचलित लोक संगीत परम्पराओं में संस्कृति के संरक्षकों द्वारा सत्र का आयोजन किया गया।

इन कार्यक्रमों के अलावा भी शाम को कई अन्य मनमोहक कार्यक्रम हुए। सांय 5.45 बजे धन्ना भीयां छतरी के पास लिविंग लिजेंड द्वितीय के तहत रावताराम, हाकमखान, कचराखान द्वारा प्रस्तुति दी गई। सांय 7.45 बजे मुख्य स्टेज कार्यक्रम में ओल्ड जनाना कोर्टयाडऱ् में राजस्थान के प्रसिद्ध लोक कलाकार लाखाखान, दयाराम, घेवरखान, कचराखान, कादरखान लंगा व अन्य कलाकारों सहित विदेशी कलाकारों कोरा मेस्ट्रो, बालाक सिसोको व हंगरी के प्रसिद्ध कलाकारों द्वारा प्रस्तुति दी गई। शनिवार की अन्तिम प्रस्तुति क्लब मेहरान सलीमकोट पर डीजे की प्रस्तुति के साथ हुई।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote