एक प्रदेश, एक प्रदेश अध्यक्ष!

संघ प्रदेश दादरा नगर हवेली और संघ प्रदेश दमण-दीव उक्त दोनों प्रदेशों को एक करने का बिल पास होने के बाद, अब दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और दादरा नगर हवेली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कि रेस में चलने वाले नेताओं के अध्यक्ष बनने के सपने चूर-चूर होते दिखाई दे रहे है। ऐसा इस लिए क्योकि राजनीतिक गलियारों में इस वक्त यह चर्चा हो रही है कि दोनों संघ प्रदेशों को एक करने के बाद, दोनों प्रदेशों का भाजपा से प्रदेश अध्यक्ष भी एक ही होगा। मतलब साफ है जब प्रदेश एक है तो अध्यक्ष दो कैसे हो सकते है। अध्यक्ष भी एक ही होगा।

वैसे दोनों प्रदेशों को एक करने से पहले दमण-दीव के राजनीतिक गलियारों में दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के लिए, विशाल टंडेल, मनोज नायक, नवीन पटेल और बी-एम माछी जैसे कई नेताओं के नाम पर चर्चा हो रही थी। लेकिन अब हालत बदल चुके है। अब चर्चा हो रही है दादरा नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पद की। वैसे दादरा नगर हवेली और दमण-दीव का प्रदेश अध्यक्ष भाजपा किसे चुनती है यह तो समय अपने पर पता चलेगा। लेकिन जानकारों का मानना है कि दोनों प्रदेश एक होने के बाद, दादरा नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा के नेता और कार्यकर्ता मिलकर यह तय करेंगे कि दादरा नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पद पर किसे नियुक्त किया जाए और इस नियुक्ति से पहले दादरा नगर हवेली जिला अध्यक्ष, दमण जिला अध्यक्ष तथा दीव जिला अध्यक्ष कि नियुक्ति कि जाएगी। तीनों जिला अध्यक्षों कि नियुक्ति के बाद दादरा नगर हवेली और दमण-दीव प्रदेश अध्यक्ष कि नियुक्ति होगी।

ये भी पढ़ें-  प्रशासक और विकास आयुक्त की नजर में क्या यह एक ही काबिल अधिकारी है?

2014102751

आप को बता दे कि फिलवक्त दादरा नगर हवेली के भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का प्रभार हसमुख भण्डारी के पास बताया जता है वही दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष कि कुर्सी फिलवक्त खाली है। दमण जिला भाजपा अध्यक्ष का पद इस वक्त दीपेश टंडेल के पास है वही दीव जिला भाजपा अध्यक्ष का पद बिपिन शाह के पास बताया जता है। वैसे दादरा नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा अध्यक्ष कि नियुक्ति से पहले अभी दमण जिला भाजपा अध्यक्ष और दीव जिला भाजपा अध्यक्ष का चुनाव होने वाला है इस चुनाव के बाद ही तय हो पाएगा कि दादरा नगर हवेली और दमण-दीव भाजपा अध्यक्ष कि कमान किसे मिलती है। कुल मिलाकर यह कह सकते है कि दमण-दीव भाजपा अध्यक्ष पद कि रेस फिलवक्त रद्द हो चुकी है और रेस में दौड़ने वाले उन नेताओं के सपने भी चूर चूर हो चुके है जिनका नाम पहले दमण-दीव भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पद कि रेस में था।

ये भी पढ़ें-  एक बार फिर भूतपूर्व सांसद मोहन डेलकर की प्रशासक प्रफुल पटेल से मुलाक़ात, इस बार भी कांग्रेस पद पर ड़ाले रखा पर्दा, जनता में चर्चा क्या दानह से कांग्रेस मुक्त भारत की शुरुआत?

अब जानकारों का मानना है कि दोनों प्रदेशों के भाजपा नेता और कार्यकर्ता मिलकर किसी ऐसे एक नेता का अध्यक्ष के लिए चयन करेंगे जो दादरा नगर हवेली और दमण-दीव कि जनता को प्रिय हो और दोनों प्रदेशों के भाजपा कार्यकर्ताओं को एक साथ लेकर चल सके। लेकिन विशाल टंडेल, नवीन पटेल, मनोज नायक और बी-एम माछी को यदि दादरा नगर हवेली कि जनता जानती तक नहीं तो वाजिब सी बात है कि वह अब इस रेस का हिस्सा नहीं रहे। वैसे भी जनसंख्या के आधार पर देखा जाए तो दमण-दीव कि तुलना में दादरा नगर हवेली कि जन संख्या अधिक है ऐसे में हो सकता है कि आने वाले समय में दादरा नगर हवेली और दमण-दीव का प्रदेश अध्यक्ष दादरा हवेली से चुना जाए। यदि ऐसा हुआ तो भाजपा दादरा नगर हवेली से किसे प्रदेश अध्यक्ष का प्रभार देती है यह देखना काफी दिलचस्प होगा। क्यो कि जन संख्या के आधार पर यदि दादरा नगर हवेली का पलड़ा भारी है तो सत्ता के आधार पर दमण-दीव का पलड़ा भारी है। कुल मिलकर ऐसा लगता है कि दादरा नगर हवेली और दमण-दीव का प्रदेश अध्यक्ष किसी एक नेता को चुनना, भाजपा के लिए भी एक बड़ी चुनोती साबित होती दिखाई दे रही है।