पाश्र्वनाथ वामा माता का थाल का आयोजन आज

जोधपुर। श्री जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक तपागछ संघ के तत्वावधान में प्रथम बार एक अनूठा अनुपम पाश्र्वनाथ वामा माता का थाल का भव्य आयोजन व खीर एेकासना आयम्बिल तप सहित कई आराधनाएं होगी।

संघ प्रवक्ता धनराज विनायकिया ने बताया कि बरखेड़ा तीर्थोद्वारिका साध्वी कुशलमार्गदर्शिका प्रफुलप्रभा वैराग्यपूर्णा आदि के सानिध्य में 11 अगस्त को खीर एेकासना तप तथा प्रात. 9-30 बजे से पाश्र्वनाथ वामामाता का थाल का एक अनूठा अनोखा आयोजन किया जाएगा व बकरा ईद निमित्ते बारहस तेरहस चौदहस तीन दिवसीय आयम्बिल तप आराधना साधना सहित कई धार्मिक कार्यक्रम होंगे। क्रिया भवन में साध्वी प्रफुल्लप्रभा ने कहा कि समकित से आत्मा शुद्ध व निर्मल बनती है उन्होंने कहा कि मिथात्वों को दूर करना व समकित तत्व को धारण करने वाला प्राणी सर्वश्रेष्ठ होता है परमात्मा के प्रश्नों पर जो शंका संदेह करता है उसे मिथात्व का दोष लगता है। समकित तब प्राप्त होगा जब हम परमात्मा व  धर्म पर पूर्णतया श्रद्धा करेंगे। उन्होंने कहा कि अतिसार बोलने के लिए नहीं आचरण में उतारने का सूत्र है। साध्वी वैराग्य पूर्णा ने धर्म ग्रंथ बिंदु सूत्र पर कहा कि धर्म हमें जीना सिखाता है धर्म कभी मरना नहीं सिखाता की किसी को मारो या किसी को दुख दो। धर्म के साथ साथ अच्छे कर्म करेंगे तो मनुष्य भव सफल होगा।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote