सरकारी जमीन पर, एलकेम के विधुत सब स्टेशन का कब्ज़ा।

Alkem Daman
Alkem Daman

कुछ अधिकारी ऐसे होते है, सरकार किसी की भी आए, प्रशासक कोई भी आए, उन्हे कोई फ़र्क नहीं पड़ता। वे अपनी कार्यप्रणाली नहीं बदलते, वे वही करते है जो हमेशा से करते आए है। ऐसे ही एक अधिकारी है दमण-दीव विधुत विभाग के कार्यपालक अभियंता मिलिंद रामभाऊ इंगले।

मिलिंद रामभाऊ इंगले संघ प्रदेशों में सबसे भ्रष्ट अधिकारियों मे से एक गिने जाते है यह हम नहीं कह रहे है बल्कि समय समय क्षेत्रीय जनता द्वारा उक्त अधिकारी की भ्रष्ट कार्यप्रणाली के बारे में की गई शिकायते और समाचार पत्रों में छपे उनके कारनामे ही इस बात की गवाही दे चुके है। कमाल तो यह है कि उनके इतने काले कारनामों के बावजूद उन्हे कभी हटाया नहीं गया, बल्कि उन्हे दादरा नगर हवेली का विधुत विभाग का प्रभार भी बतौर नज़राना दे दिया गया। पता नहीं वे प्रशासक प्रफुल पटेल को कौन-सी जड़ी-बूटी खिलाते है कि उनकी भ्रष्टता कि ओर प्रशासक का ध्यान ही नहीं जाता? खैर, मिलिंद रामभाऊ इंगले के भ्रष्टाचार और मनमानियों के कई किस्से क्षेत्र में मशहूर है उनमे से एक किस्सा हाल ही में हुआ है, वह किस्सा इस तरह का है।

ये भी पढ़ें-  2014 लोकसभा चुनाव हारने के बाद 250% बढ़ी केतन पटेल की आय।

दमण के दाबेल क्षेत्र में, एलकेम लेबोरेटरीज़ लिमिटेड नामक एक कंपनी है। इस कंपनी का जो विधुत सब-स्टेशन है वह वर्षो से सरकारी जमीन पर स्थित है, इस मामले में जब कार्यवाई शुरू हुई तो, विधुत विभाग ने एलकेम को नोटिस थमाकर, सरकारी जमीन से अपना विधुत सब स्टेशन 31 मार्च 2019 तक हटाने को कह दिया।

ये भी पढ़ें-  शराब के नशे में हुई दुर्घटना के कारण दमण RTO निरीक्षक विपिन पवार की हड्डियां टूटी।

31 मार्च को निकले 1 माह से अधिक हो गया है, मगर अब तक विधुत विभाग के अभियंता ने उक्त इकाई कि विधुत सप्लाई बंद नहीं की। यह बेहद हैरान करने वाली बात है! अब तक विधुत अभियंता मिलिंद इंगले ने इस कंपनी की विधुत सप्लाई क्यो नहीं कांटी? वे इस कंपनी पर इतनी मेहरबानी क्यो दिखा रहे है? इस कंपनी की विधुत सप्लाई, बंद ना करने और कंपनी पर कोई ठोस कानूनी कार्यवाही ना करने के एवज में मिलिंद इंगले और उक्त विभाग के संबन्धित अधिकारियों ने कितनी उगाही की होगी? इसकी जांच अब प्रशासक प्रफुल पटेल को करनी चाहिए।

ये भी पढ़ें-  कितने करोड़ में हुआ क्लोज़र नोटिस का सौदा? 

मिलिंद इंगले ने इस मामले में जैसी दया दिखाई है वैसी ही दया भूतकाल में उन्होने कई बार दिखाई होगी, इस घटना को देखकर तो यही लगता है। जनता की मांग है कि मिलिंद रामभाऊ इंगले ने अपने कार्यकाल के दौरान कितनी कंपनी को नोटिस दिया और कितनी कंपनियों पर कार्यवाही हुई अब इसकी भी जांच होनी चाहिए।