गायकी से बांधा समां, नृत्य ने मोहा मन

जोधपुर। लाचू मेमोरियल कॉलेज ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी के फार्मेसी संकाय में बी फार्मा प्रथम सेमेस्टर एवं डी फार्मा प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों के लिए वेलकम फंक्शन का आयोजन किया गया।

संकाय के निदेशक प्रो. डॉ. बीपी नागोरी ने बताया कि फार्मेसी संकाय में बी फार्मा एवं डी फार्मा के नवांगतुक विद्यार्थियों के लिए बी फार्मा तृतीय सेमेस्टर एवं डी फार्मा द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों द्वारा वेलकम पार्टी का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का शुभारम्भ मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन से किया गया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में प्रो. बीपी नागोरी ने कहा कि आज का यह दौर प्रतिस्पर्धा का दौर है, जिसमें केवल किताबी ज्ञान ही नहीं अपितु सहशैक्षणिक गतिविधियों का होना भी अत्यंत आवश्यक है। आजकल जॉब इंटरव्यूज में आपके ज्ञान के अलावा आपकी अन्य स्किल्स को भी कई तरह से आंका जाता है, इसलिए जरुरी है कि विद्यार्थी कॉलेज स्तर पर इन मंचों पर आकर विभिन्न तरह की गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लें ताकि वे अपना सर्वांगीण विकास कर सकें जिसमें कम्युनिकेशन स्किल्स, ग्रुप डिस्कशन, प्रेजेंटेशन स्किल्स, पोस्टर प्रेजेंटेशन इत्यादि महत्वपूर्ण हैं।

डॉ. नागोरी ने संकाय की विशेषताओं का उल्लेख करते हुए बताया कि फार्मेसी संकाय अपने 36 वर्ष की उत्कृष्ट शैक्षणिक एवं सहशैक्षणिक उपलब्धियों के लिए जाना जाता है। जहां पर योग्य एवं अनुभवी शिक्षक निरंतर सेवाएं प्रदान करते हुए विद्यार्थियों के भविष्य निर्माण के लिए तत्पर है। संकाय में मंडे सेशनल एग्जाम सिस्टम है एवं निरंतर सेशनल एवं अटेंडन्स की मॉनिटरिंग भी की जाती है, जिसमे पैरेंट-टीचर मीटिंग के तहत विद्यार्थियों की प्रगति के बारे में अभिवावकों को समय-समय पर अवगत करवाया जाता है। संकाय में बी फार्मा में फार्मेसी कौंसिल ऑफ इंडिया द्वारा घोषित रूल्स एवं सिलेबस के अनुरूप चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम को लागू किया गया है। विद्यार्थियों के लिए एक्सटेंशन लेक्चर एवं सेमिनार आयोजित किए जाते हैं, जिसमें फार्मा इंडस्ट्री के विषय विशेषज्ञों को बुलाकर इंडस्ट्री से सम्बन्धित जानकारी उपलब्ध करवाई जाती है। फार्मा-टेक फार्मेसी परिषद् के तत्वावधान में हर वर्ष स्वच्छ, शिक्षित एवं स्वस्थ भारत की परिकल्पना के साथ राष्ट्रीय फार्मेसी सप्ताह का आयोजन किया जाता है, जिसमें विद्यार्थियों की शिक्षा के साथ-साथ उनके संपूर्ण व्यक्तित्व विकास पर बल दिया जाता हैं। डॉ. नागोरी ने विद्यार्थियों को आईपीए, आईपीजीए, आईएचपीए, आईपीसीए जैसी विभिन्न फार्मास्यूटिकल एसोसिएशन्स की गतिविधियों की जानकारी दी और क्वलिटी लाइफ के लिए आध्यात्मिक स्वस्थता के साथ-साथ सर्वांगीण विकास पर बल दिया।

कार्यक्रम में बीफार्मा प्रथम एवं तृतीय सेमस्टर एवं डी फार्मा प्रथम वर्ष एवं द्वितीय वर्ष के छात्रों ने मंच पर आकर स्वपरिचय दिया। सांस्कृतिक गतिविधियों के अंतर्गत बी फामा प्रथम सेमस्टर के रमेश पटेल एवं अनन्या शर्मा, बी फार्मा तृतीय सेमेस्टर की आफरीन एवं इरा जैन, डी फार्मा प्रथम वर्ष के सुरेंद्र सिंह एवं योगेश कुमार, डी फार्मा द्वितीय वर्ष के रविशंकर, महेंद्र कुमावत, महिपाल सिंह एवं हर्ष भार्गव ने अपनी गायकी से समां बांधा। वहीं दूसरी ओर डी फार्मा प्रथम वर्ष की पूजा परिहार एवं विक्रम गहलोत ने कविता वाचन से ध्यान आकर्षित किया। इसी कड़ी में डी फार्मा प्रथम वर्ष की प्रियंका शर्मा तथा द्वितीय वर्ष की कृष्णा झावेरी ने मनमोहक नृत्य प्रस्तुति पेश की। बी फार्मा तृतीय सेमस्टर की प्रभाती, मानसी, रश्मि, अंजलि, स्वाति, अजऱा, रूचिता एवं निखिल अग्रवाल ने कॉलेज के खट्टे-मीठे अनुभवों को खूबसूरत स्किट के माध्यम से प्रस्तुत कर दर्शकों का दिल जीता। कार्यक्रम के अंत में डॉ. नागोरी ने सर्वश्रेष्ठ परिचय के लिए डी फार्मा प्रथम वर्ष की प्रियंका शर्मा एवं डी.फार्मा. द्वितीय वर्ष के ऋषभ राठौड़ को नकद पुरस्कार देकर प्रोत्साहित किया। कार्यक्रम संचालन बी फार्मा तृतीय सेमेस्टर की आफरीन एवं विनय तथा डीफार्मा द्वितीय वर्ष की कृष्णा एवं हर्ष भार्गव ने किया।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote