गले और हाथ की नस काट, खून से लिखा- ‘भ्रष्टाचार मुर्दाबाद’

304
गले और हाथ की नस काट, खून से लिखा- ‘भ्रष्टाचार मुर्दाबाद’

बिहार। सीतामढ़ी में 5 साल से वेतन नहीं मिलने से एक शिक्षक ने हाथ का नस काटकर खुदकुशी की कोशिश की है। पीड़ित सीतामढ़ी में पंचायत का शिक्षक जिसका नाम संजीव कुमार बताया जाता हैं। संजीव कुमार ने अपने हाथ काटकर खून निकाला और उसी खून से दीवार पर लिखा, ‘भ्रष्टाचार मुर्दाबाद।’ इसके बाद उन्होंने अपना गला काटकर खुद की जान लेने की कोशिश की। बेहोशी की हालत में उन्हें स्थानीय हॉस्पिटल में ले जाया गया। स्थिति नाजुक देखते हुए उन्हें मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया गया।

अब सोचने वाली बात है की ऐसी घटना क्यों हुई? क्यों लोग बार बार अलग अलग परेशानियों के कारण अत्महत्या कर रहे है जरा सोचिए अपने आप को मौत के घाट उतरना कितना मुश्किल होगा, सोचिए एक एएम आदमी के नाते सोचिए, भाजपा या कांग्रेस का कार्यकर्ता बनकर मत सोचिएगा, वरना इस मामले में भी राजनीति शुरू हो जाएगी और समस्या का समाधान कभी नहीं निकलेगा।

अधिकतर अत्महत्या के मामलों के पीछे आर्थिक तंगी एक बड़ा कारण रहता है और भ्रष्टाचार ही जिसके कारण कुछ लोगो के पास अकूत धन है तो किसी के पास कुछ नहीं। आत्मनिर्भर भारत की एक हकीकत यह भी है की आज भाई भाई की आर्थिक मदद करने से कतराता है अधिकतर लोग आर्थिक मदद मांगने की शर्मिंदगी नहीं झेलना चाहते है और किसी से मदद मांगे बिना अत्महत्या कर लेते है। मंदी तो पहले से थी लेकिन इस वक्त मंदी के साथ साथ महामारी भी अपने पेर पसार रही है हो सकता है आने वाला समय और अधिक कठिनाइयों भरा हो, इस लिए जितना हो सके अपने सगे-संभन्धियों की मदद करें मदद मांगने का इंतजार ना करें क्यों इस खबर को शेयर करें और अपने लोगों का खयाल रखें।