48 घंटों में टिड्डी का रूप ले रहे है फाका

जोधपुर। कई महीनों के बाद अभी भी जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में टिड्डियों का कहर जारी है। टिड्डियों की ओर से दिए गए अण्डों से फाका निकलने लगे है और सिफ 48 घंटों में ये फाका भी टिड्डी का रूप ले रहे है। अब ये टिड्डी व फाका दल फसलों पर सितम ढा रहे है।

सीमावर्ती जैसलमेर व बाड़मेर जिलों के साथ ही जोधपुर जिले के भी कई कस्बों में दिनोंदिन बढ़ रहे टिड्डियों के प्रकोप से किसानों की चिंताएं बढ़ गई है। खेतों में खड़ी फसलों को टिड्डी दल खत्म कर रहे है। फाका की ओर से खेतों में लगी फसलों तथा वनस्पति व पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। प्रशासन की ओर से टिड्डी दलों को खत्म करने के किए जा रहे प्रयास नाकाफी होने से किसान अपने स्तर पर टिड्डियों को भगाने का प्रयास कर रहे है। खेतोंं में लहलहा रही खड़ी फसलों को बचाने के लिए किसानों की ओर से खेतों में हो-हल्ला कर, थालियां व कनस्तर बजाकर तथा मोटर साइकिल दौड़ाकर उसकी आवाज व धुंए से टिड्डियों को भगाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा खेतों में कचरा आदि जलाकर धुंआ भी किया जा रहा है। इसी प्रकार किसान अन्य कई प्रकार के जतन करते नजर आ रहे है, ताकि टिड्डी उड़ सके और फसलों को नुकसान नहीं हो। सरकारी प्रयास नाकाफी रहने से किसानों को फसलों में नुकसान का भय सता रहा है। बावजूद इसके प्रशासन की ओर से उनके खात्मे को लेकर कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है।

Leave your vote

500 points
Upvote Downvote