गौ सेवा पर राय -परामर्श और परिचर्चा के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद योगी जी : गिरीश जयंतीलाल शाह

मुंबई (महाराष्ट्र) राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित  संस्था समस्त महाजन के मैनेजिंग ट्रस्टी एवं  भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के सदस्य गिरीश जयंतीलाल शाह  जीव दया, पशु कल्याण गौ संवर्धन एवं प्राकृतिक खेती से लेकर  पर्यावरण संरक्षण और  सामाजिक सेवा के कई ऐसे महत्वपूर्ण  विषय को लेकर हर रोज  अपनी संस्था के माध्यम से स्वार्थ सेवा  हैं। शाहजी की संस्था  कोरोना लॉकडाउन  के विपत्ति जनक स्थिति में भी  अपने काम करने की गति को धीमा नहीं होने दिया और अपने संस्था के  पदाधिकारियों एवं  स्वयंसेवी कार्यकर्ताओं को लेकर  पूरे जोश के साथ जुटे रहे हैं जिसमें  उनका प्रिय विषय  गाय से  गौशाला को आत्मनिर्भर बनाने के लिए  संचालित अभियान  तनिक भी कमजोर नहीं  होने दिया और अपने तन मन से जुड़े हुए हैं।

जयंतीलाल शाह जी का  मानना है कि  गौशाला के लिए जल की बहुत बड़ी जरूरत होती है।  इसका जीता – जागता उदाहरण  राजस्थान की  भौगोलिक स्थिति पर नज़र डालने की बात  इस समस्या को आसानी से समझा जा सकता है।  शाह ने बताया कि समस्त महाजन द्वारा  जोधपुर – जिले  में  गोचर विकास  के साथ गांव  के पुराने तालाब जीर्णोद्धार कार्य चालू है 100 से भी अधिक तालाबो का जीर्णोद्धार व अंदाजीत 20,000 एकङ जमीन से विलायती बबुल हटाकर देशी घास का कार्य संपन्न हो चुका है।  गौशाला प्रबंधन में जल की समस्या से निपटने के लिए महाराष्ट्र में जल संरक्षण  का परचम लहराने के बाद राजस्थान में  उल्लेखनीय कार्य करके  लोगों को चौंका दिया है।  अब अगला निशाना  उत्तर प्रदेश के  गौ संरक्षण अभियान को  गोबर क्रांति से   जोड़कर आत्म निर्भर  बनाने का निश्चय लिया है।   अब तक इस विषय पर उत्तर प्रदेश के  यशस्वी मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ से दो बार इस विषय पर चर्चा कर चुके  गिरीश जी  ने अयोध्या में गौशाला आरंभ करने का  मन बना लिया है  और लगभग बहुत सारी कागजी कार्यवाही पूरी हो गई है

ये भी पढ़ें-  सीकर के खाटू में श्याम बाबा का फाल्गुनी लक्खी मेला इस बार नहीं भरेगा, अजमेर में ख्वाजा साहब उर्स मेल

समस्त महाजन के मैनेजिंग ट्रस्टी शाह ने बताया कि “मेरा उत्तर प्रदेश के आदरणीय मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी को भारतीय जीव जंतु कल्याण बोर्ड के सदस्य के नाते तीन साल पहले मिलना हुआ , बोर्ड के उस समय के चैरमन श्री गुप्ता जी की आगेवानी में हमारी यह मुख्यमंत्री से पहली मुलाक़ात थी , बेसहारा पशु को लेकर मुख्यमंत्री जी चिंतित थे, हमने सूज़ाव  दिया की, प्रति पशु प्रति दिन कुछ सबसिडी हो जाय तो गाँव गाँव में जिवदया प्रेमी लोग गौशाला खोलेंगे, और बेसहारा पशु सुरक्षित हो जाएँगे, गाँव को गोबर उपलब्ध हो जाएगा और प्राकृतिक खेती की तरफ़ गाँव आगे बढ़ेगा , हमारी बात का संज्ञान लेकर मुख्यमंत्री जी ने तुरंत मंत्रीमंडल में प्रस्ताव पारित कर रोज़ाना रु 30/- प्रति पशु प्रति दिन पास किया और आज तीन साल से 20 लाख पशु प्रति दिन लाभान्वित हो रहे है , रास्ते के ऐक्सिडेंट कम हो गए है, खेतों में पशु घूस नहीं रहे, गाँव गाँव के ग़ौचर में पशु सुरक्षित हो रहे है ,गाँव को प्राकृतिक खेती के लिए पर्याप्त गोबर मिल रहा है।”

ये भी पढ़ें-  जुलाई 2020 में परिवारों की मेडियन इन्फ्लेशन धारणा 60 बेसिस पॉइंट्स

उत्तर प्रदेश में  गौ संरक्षण संवर्धन के कार्यों को  आधुनिक एवं टिकाऊ व्यवस्था देने  तथा छुट्टा पशुओं के  स्थाई नियंत्रण के लिए  उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अनुरोध किया है कि “मेरी हर राज्य के मुख्यमंत्री से गुज़ारिस है की इस प्रकार का जनहित का निर्णय लेवे , तो भारत जल्द ही रोगमुक्त हो जाएगा क्योंकि रासायनिक खाद और जंतुनाशक के ज़हर से खेती मुक्त हो जाएगी इसी शृंखला में कान्हा उपवन अयोध्या का निर्माण हुआ है, भगवान श्री राम के आशीर्वाद से अयोध्या विस्तार के सभी पशुधन को सुरक्षित करना है।” इस विषय पर शाह ने  अपने मुलाकात के  दो महत्वपूर्ण चित्र( वर्ष 2018 एवं 2019) भी साझा किए हैं  जिसको देखने से यह पता चलता है कि  शाह  जी और मुख्यमंत्री के बीच में  गौ संवर्धन को लेकर के  अत्यंत महत्वपूर्ण बैठक की गई है जिसमें वह उत्तर प्रदेश में  विशेष कार्य करना चाहते हैं ।  शाह जी  चर्चा को मूर्त रूप देने के लिए  अयोध्या नगर निगम की गौशाला( कान्हा उपवन) को देश का एक आदर्श गौशाला स्थापित करने के लिए  संकल्प ले लिए हैं और इस दिशा में कार्यवाही अंतिम चरण में है।

ये भी पढ़ें-  जमीन घोटाले में दिल्ली, गुरुग्राम में ईडी के छापे

शाह ने  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ  संपन्न  राय परामर्श तथा परिचर्चा को आज आगे बढ़ते हुए  जहां वह पाकर  मुख्यमंत्री को अपना हार्दिक आभार प्रकट किया है वहीं पर गौ संरक्षण संवर्धन तथा  धर्म या मानव  कल्याण के लिए समर्पित लोगों से अनुरोध किया है कि  इस अभियान में  वह अपना अमूल्य सबका सहयोग – समर्थन  करते हुए योगदान करें। इस विषय में अधिक जानकारी के लिए उनसे सीधे संपर्क किया जा सकता है। उनका संपर्क सूत्र: गिरीश जयंतीलाल शाह, मैनेजिंग ट्रस्टी -समस्त महाजन