शराब के नशे में हुई दुर्घटना के कारण दमण RTO निरीक्षक विपिन पवार की हड्डियां टूटी।

Bipin Pawar
Bipin Pawar

जानकारी मिली है कि दमण परिवहन विभाग के निरीक्षक विपिन पवार वापी एवं आसपास सिलवासा आते जाते एक समय सड़क दुर्घटना में घायल हो गए है। जानकारी के अनुसार उस वक्त उनके साथ कमलजीत नामक एक और अधिकारी भी था। 29 जनवरी की रात में यह घटना हुई जिसके बाद हरिया अस्पताल में उसी रात उन्हें भर्ती किया गया था।

जनचर्चा के अनुसार जिस समय उन्हें अस्पताल लाया गया था उस वक्त पवार शराब के नशे में थे। इससे पहले भी विपिन पवार का शराब के नशे में नोक-झोंक करने का एक वीडियो वायरल हुआ था, लेकिन प्रशासन कि और से कोई संज्ञान नहीं लिया गया।

यह वही विपिन पवार है जिनके बारे में जनता में यह चर्चा है कि यह लाइसेन्स बनवाने आई हुई जनता और एजेंटो से कभी मुफ़्त में सेंडविच, तो कभी पिज्जा तो कभी शराब की फरमाइश करते है एक अधिकारी की ऐसी फर्माइशे उक्त प्रशासन के काफी शर्मिंदगी की बात है। जनता और एजेंट तो मजबूर है फर्माइश पूरी करने के लिए क्यो कि उन्हे अपने अपने कार्य जो करवाने है। चर्चा यह भी है कि रोडरेज के कारण किसी गिरोह ने उनपर हमला किया है। वैसे दमण आर-टी-ओ में विपिन पवार ईमानदारी से काम करते है यह जनता नहीं मानती। जनता इनके पुराने रिकॉर्ड और कमाउनीति से भली भांति परिचित है और उक्त अधिकारी की अनियमितता और भ्रष्ट नीति के सवय दानह सांसद नट्टू पटेल साक्षय रह चुके है यह और बात है की जनता को न्याय दिलाने का दावा करने वाले सांसद नट्टू पटेल भी उक्त अधिकारी को पुनः कुर्सी का गणेश होने से नहीं रोक पाए।

ये भी पढ़ें-  ऊपर से देखने वाले को अंदर का नजर नहीं आता!

फिलहाल जिस सरकारी गाड़ी से दुर्घटना हुई है वह बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गयी है जिसे आनन फानन में क्रेन से हटाकर किसी प्राइवेट गैरेज में बनाने के लिए दिया गया है। हालांकि सूचना मिलते ही हरिया अस्पताल में स्वास्थ्य निदेशक डाक्टर वी के दास पहुंच गए थे और इलाज की व्यवस्था पर नजर बनाए हुए थे। कल ही उन्हें चला स्थित आशीर्वाद अस्पताल में रेफर कर दिया गया था। हाथ की हड्डी टूट गई है और खतरे से बाहर हैं। इस घटना की जानकारी वापी पुलिस को न देना तरह तरह की आशंका को जन्म देती है। फिलहाल इस घटना की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए ताकि सच्चाई लोगो को मालूम हो सके।

ये भी पढ़ें-  दानह आबकारी निरीक्षक मिहिर भी घोटाले में माहिर, सरकारी जमीन को पार्किंग बताकर बार एंड रेस्टोरेन्ट का लाइसेन्स जारी करने की चर्चा जोरों पर।

एक नज़र इन ख़बरों पर भी