रेजिडेंट डॉक्टरों से मारपीट के तीन आरोपी पकड़े

0
33

जोधपुर। महात्मा गांधी अस्पताल में शनिवार रात हुए हंगामे के बाद पुलिस ने रेजिडेंट डॉक्टरों से मारपीट के तीन आरोपियों को शंातिभंग के आरोप में गिरफ्तार किया लेकिन उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया। इसके बाद पुलिस उन्हें फिर थाने ले आई। पुलिस में एक रेजिडेंट डॉक्टर की तरफ से मरीज व उसके परिजनों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया गया है। जांच एसीपी की तरफ से की जा रही है। इधर रेजिडेंट डॉक्टरों ने मारपीट करने वाले मरीज व उसके परिजनों और मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है। कार्रवाई नहीं होने पर हड़ताल पर जाने की चेतावनी भी दी है।पुलिस ने बताया कि शनिवार को सूरसागर में रावटी क्षेत्र निवासी भैराराम गौड़ को मधुमक्खियों ने काट लिया। उसे महात्मा गांधी अस्पताल लेकर आया गया। जांच के बाद उन्हें सर्जिकल ए में भर्ती करवाया गया। रात को हाथ में सूजन आने पर परिजनों को इंजेक्शन के रिएक्शन करने का संदेह हुआ। उन्होंने ड्यूटी कर रहे रेजिडेंट चिकित्सक से जांच करने का आग्रह किया। आग्रह करने के बावजूद रेजिडेंट चिकित्सक ने इलाज नहीं किया। वह आपातकालीन इकाई के बाहर जा पहुंचा और गाली-गलौच करने लगा। इसको लेकर परिजन भी आक्रोशित हो गए। वहां हंगामा खड़ा हो गया। परिजन ने रेजिडेंट चिकित्सक के शराब के नशे में ड्यूटी पर होने व अभद्रता करने का आरोप लगाया। रेजिडेंट के विरोध करने पर बिगड़े हालात को बढ़ता देख रात्रि गश्त कर रही तीन थानों की पुलिस मौके पर पहुंची व एकबारगी स्थिति नियंत्रित कर ली। इस दौरान परिजन व साथ आए परिचित पुलिस को मामले की जानकारी देने लगे। इतने में एक रेजिडेंट वहां आया और परिजन से धक्का-मुक्की करने लगा। यह देखते ही परिजनों ने उसे घेर लिया। दोनों एक-दूसरे पर लाते-घूंसे बरसाने लगे। पुलिस ने उन्हें अलग करने का प्रयास किया। इतने में एक-दो रेजिडेंट चिकित्सक और बाहर आए तो परिजनों ने उन्हें भी घेरकर पीट दिया। एक रेजिडेंट की आंख के पास चोट आई। पुलिस निरीक्षक भंवर सिंह, एएसआई धन्नाराम के साथ ही होमगार्ड ललित चौहान ने बीच-बचाव कर दोनों को अलग किया। पुलिस व आरएसी के जवानों ने हल्का बल प्रयोग कर डंडे फटकारे। इसके बाद रविवार तडक़े तक पुलिस, अस्पताल प्रशासन व मरीज के परिजनों के बीच समझाइश का दौर चलता रहा। सुबह पांच-छह बजे के बीच मामला शांत हो पाया। सरदारपुरा पुलिस ने इस संबंध में मरीज के परिजन गोविंद, दिनेश व प्रेम को शांतिभंग में गिरफ्तार किया। उन्हें फिर जमानत पर रिहा कर दिया गया। इधर अस्पताल के डॉक्टर जेपी सोनगरा की तरफ से राजकार्य में बाधा डालने, मारपीट करने का मामला दर्ज करवाया गया है। फिलहाल एक प्रकरण पुलिस में दर्ज हुआ है। मामले की जांच एससीएसटी एक्ट सेल की एसीपी की तरफ से की रही है।मरीज की पत्नी का आरोप है कि चिकित्सक मरीज को छुट्टी देने वाले थे लेकिन तभी हाथ में सूजन आने पर इंजेक्शन के रिएक्शन होने का संदेह हुआ। चिकित्सक को जांच करने का आग्रह किया तो उसने अनसुनी कर दी। वह आपातकालीन इकाई के बाहर जाकर गालियां देने लगा। पुलिस भी सुनती रही। बाद में उसके साथ दूसरे चिकित्सक आए और मारपीट की। मरीज की पत्नी व परिजन ने ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट के नशे में होने का आरोप लगाया और मेडिकल जांच करवाने की मांग की लेकिन पुलिस उसका मेडिकल नहीं करवाया।