रेलवे : फ्लाइंग रानी और वलसाड पैसेंजर ट्रेनों में रखे जाएंगे पासधारक यात्रियों के लिए अरक्षित कोच

गुजरात : फ्लाइंग रानी और वलसाड पैसेंजर ट्रेनों में पास होल्डर्स के लिए रिजर्व कोच होंगे। इसके लिए ट्रेन में कोई अतिरिक्त कोच नहीं जोड़ा जाएगा, जबकि एक कोच पर पास धारकों के लिए आरक्षित के रूप में एक बोर्ड लगाया जाएगा। कोविड से पहले पास धारकों के लिए अलग कोच था, लेकिन कोविड के दौरान ट्रेन सेवा बंद होने के बाद इन पास धारकों के लिए रिजर्व कोच की व्यवस्था शुरू नहीं की गई। लेकिन पास धारकों के बार-बार आवेदन को देखते हुए रेलवे ने फ्लाइंग रानी और वलसाड पैसेंजर ट्रेनों में पास होल्डर्स के लिए रिजर्व कोच रखने का निर्णय लिया।

कोविड के बाद कम हुई पास धारक यात्रियों की संख्या

आपको बता दें कि कोविड से पहले 35 से 40 हजार पास धारक रोजाना अप डाउन करते थे, लेकिन अब रोजाना यात्रा करने वाले पास धारकों की संख्या 22 से 25 हजार रह गई है। ट्रेन सेवा शुरू होने के बाद लंबे समय तक पास जारी नहीं होने के कारण दैनिक यात्रियों को टिकट लेकर आने को मजबूर होना पड़ा।

पासधारकों को अलग से कोच नहीं देने पर बढ़ी हैं समस्या

ऐसे में अब जबकि ट्रेन यातायात हमेशा की तरह हो गया है तो ऐसे समय में भी रेलवे ने पाल धारकों के लिए अलग कोच आवंटित करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया। इस मुद्दे पर कई बार पास धारकों और यात्रियों के बीच झड़प भी हो चुकी है। इस बीच, पास धारकों के बार-बार अभ्यावेदन के बाद, रेलवे ने फ्लाइंग रानी और वलसाड यात्री ट्रेनों में पास धारकों के लिए आरक्षित कोच जोड़ने का फैसला किया है।

इसी वर्ष जून माह में, रेल मंत्रालय ने  UTS mobile app के बारे में जानकारी देते हुए ट्वीट करके बताया है कि अब यात्रियों को रेलवे की लंबी लाइनों में खड़े होने की जरूरत नहीं है। वह बिना किसी परेशानी के UTS mobile app   अनारक्षित जनरल टिकट और प्लेटफार्म  टिकट बुक करा सकते हैं।

ये भी पढ़ें-  थानाधिकारी की गोली से पुलिस कमांडो की मौत

यह नियम भी आपके काम के है 

दो स्टॉप का नियम : अगर आप की ट्रेन छूट जाती है तो टीटीई अगले दो स्टॉप या अगले एक घंटे तक (दोनों में जो पहले हो) आपकी सीट किसी और यात्री को अलॉट नहीं कर सकता है। इसका मतलब यह हुआ कि अगले दो स्टॉप में से किसी से आप ट्रेन पकड़ सकते हैं. तीन स्टॉप गुजर जाने के बाद टीटीई के पास अधिकार होता है कि वह आरएसी लिस्ट में अगले व्यक्ति को सीट अलॉट कर दे।

रात 10 बजे के TTE नहीं करेगा टिकट चेक : आपकी यात्रा के दौरान ट्रैवल टिकट एग्जामिनर (TTE) आपसे टिकट लेने आता है. कई बार वह देर आकर आपको जगाता है और अपनी आईडी दिखाने को कहता है। लेकिन, आपको बता दें, रात 10 बजे के बाद TTE भी आपको डिस्टर्ब नहीं कर सकता है। टीटीई को सुबह 6 से रात 10 बजे के बीच ही टिकटों का वेरिफिकेशन करना जरूरी है. रात में सोने के बाद किसी भी पैसेंजर को डिस्टर्ब नहीं किया जा सकता. यह गाइडलाइन रेलवे बोर्ड की है। हालांकि, रात को 10 बजे के बाद यात्रा शुरू करने वाले यात्रियों पर यह नियम लागू नहीं होता।