ED का बड़ा एक्शन: गुप्ता बिल्डर्स की 148 करोड़ की संपत्ति की अटैच

प्रवर्तन निदेशालय ने गुरुवार को पंजाब में अलग-अलग स्थानों में रियल एस्टेट कारोबारियों पर बड़ी कार्रवाई की और करोड़ों रुपये की संपत्ति अटैच की है। साथ की कारोबारियों के बैंक खाते भी सीज किए हैं। ईडी ने निवेशकों से ठगी करने के आरोप में रियल एस्टेट फर्मों की 147.81 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है।

जानकारी के अनुसार चंडीगढ़ अंचल कार्यालय ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है। ईडी ने मनी लॉंड्रिंग एक्ट के तहत यह कार्रवाई की है। इसमें गुप्ता बिल्डर्स एंड प्रमोटर्स प्राइवेट लिमिटेड के निदेशक सतीश गुप्ता, प्रदीप गुप्ता और उनके सहयोगी अनुपम गुप्ता और नवराज मित्तल के बैंक खाते सीज किए गए हैं। अटैच की गई संपत्तियों में पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ में वाणिज्यिक स्थान, आवासीय घर, कृषि भूमि और बैंक खाते शामिल हैं।

ईडी के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एजेंसी ने चंडीगढ़ और पंजाब पुलिस की ओर से रियल एस्टेट कंपनी जीबीपीपीएल के निदेशकों और अन्य के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी के आधार पर मनी लॉंड्रिंग की जांच शुरू की थी। कंपनी ने करीब 2500 खरीदारों से 478 करोड़ रुपए जुटाए और इन लोगों को फ्लैट, प्लॉट और वाणिज्यिक स्थल देने का वादा किया था। उन्होंने फ्लैट, प्लॉट, कामर्शियल स्पेस देने का वादा कर खरीदारों को ठगा। फर्म ने न तो निवेशकों को संपत्तियों का कब्जा दिया और न ही उनका पैसा वापस किया।

ये भी पढ़ें-  अवैध खनन के आरोपी के घर से ED को मिली हेमंत सोरेन की पासबुक और चेक बुक

सूत्रों ने खुलासा किया है कि जीबीपीपीएल ने अन्य व्यक्तियों के साथ मिलकर इस ठगी को अंजाम दिया। जालसाजी के माध्यम से यह पैसा विभिन्न चल और अचल संपत्तियों में निवेश किया गया, जो अपराध की आय है। बहरहाल ईडी ने संबंधित संपत्तियों को अटैच कर लिया है। इससे पहले ईडी ने मामले में शामिल व्यक्तियों के विभिन्न परिसरों में तीन जून 2022 को ली गई तलाशी के दौरान विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज और चल संपत्तियां जब्त की थीं। इसमें 85 लाख नकद और एक लग्जरी कार भी शामिल थी।

ये भी पढ़ें-  भ्रष्टाचार, घोटाले और जांच के मामलो में, प्रधान मंत्री कार्यालय का अजीबों-गरीब जवाब!

इसी वर्ष जून माह कि एक खबर के अनुसार, एजेंसी ने एक बयान जारी करके बताया कि 3 जून को चंडीगढ़, अंबाला, पंचकुला, मोहाली और दिल्ली में 19 स्थानों पर छापेमारी की गई थी। इस दौरान गुप्ता बिल्डर्स एंड प्रमोटर्स प्राइवेट लिमिटेड और उससे जुड़े लोगों के यहां तलाशी अभियान चलाया गया था। इन लोगों में गुप्ता बिल्डर्स के निदेशक सतीश गुप्ता और प्रदीप गुप्ता शामिल थे। इनके अलावा समूह के सहयोगी बाजवा डेवलपर्स लिमिटेड, कुमार बिल्डर्स, विनमेहता फिल्म्स प्राइवेट लिमिटेड के यहां भी छापमारी हुई थी। इनके निदेशक जरनैल सिंह बाजवा, नवराज मित्तल और विशाल गर्ग के आवास पर भी ईडी ने छापा डाला था।