पैरोल पर बाहर आए डेरा प्रमुख ‘पिताजी’ राम रहीम का आशीर्वाद लेने जुटे हरियाणा के BJP नेता

नई दिल्ली: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम सिंह—जो इस समय 40 दिनों की पैरोल पर बाहर हैं—ने सोमवार को अपना पहला वर्चुअल सत्संग आयोजित किया. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के निर्वाचन क्षेत्र करनाल की मेयर रेणु बाला गुप्ता समेत करनाल के कई भाजपा नेताओं ने बलात्कार और हत्या के दोषी करार दिए जा चुके धार्मिक नेता के प्रवचन सुनने के लिए लॉग-इन किया और उनका ‘आशीर्वाद’ मांगा.

बलात्कार और हत्या के मामलों में दोषी ठहराए जाने के बाद से हरियाणा की सुनारिया जेल में सजा काट रहे राम रहीम को 14 अक्टूबर को 40 दिनों की पैरोल मिली थी. पैरोल पर उनकी रिहाई राज्य में आदमपुर उपचुनाव और पंचायत चुनाव से कुछ दिन पहले हुई है.

मेयर रेणु बाला को राम रहीम के साथ वर्चुअल बातचीत करते देखा गया और उन्होंने उनसे करनाल आने का अनुरोध भी किया. साथ ही कहा कि शहर को उनके आशीर्वाद और स्वच्छता के उनके संदेश से काफी लाभ हुआ है. राम रहीम उत्तर प्रदेश के बरनवा गांव से ऑनलाइन सत्संग को संबोधित कर रहे थे.

करनाल के सीनियर डिप्टी मेयर राजेश अघी और डिप्टी मेयर नवीन कुमार ने भी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख से बातचीत की. सत्संग का वीडियो यूट्यूब पर उपलब्ध है.

अघी ने कहा, ‘मैं कई बार सिरसा आया हूं, आपसे फिर मिलना चाहता हूं.’ गौरतलब है कि डेरा सच्चा सौदा हरियाणा के सिरसा जिले में स्थित है.

ये भी पढ़ें-  अशोक गहलोत ने बुलाई मीटिंग, अध्यक्ष पद पर नजर, सीएम पद की चिंता

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

मेयर रेणु बाला उनसे मिलने के लिए भी पहुंचीं. हालांकि, वह ट्रैफिक के कारण सत्संग के आखिर में वहां पहुंच पाईं लेकिन इस दौरान माइक्रोफोन पर उन्हें डेरा प्रमुख को ‘पिताजी’ कहकर संबोधित करते सुना गया. डेरा अनुयायी आम तौर पर राम रहीम के लिए इसी संबोधन का इस्तेमाल करते हैं.

भाजपा मेयर ने कहा, ‘पिताजी, आप हम पर अपना आशीर्वाद बनाए रखें. पिछली बार जब आप करनाल आए थे तो स्वच्छता का संदेश दिया था, इस बार भी आ कर अपना आशीर्वाद बनाए रखें.’

दिप्रिंट ने फोन कॉल के जरिये रेणु बाला से संपर्क साधने की कोशिश की लेकिन यह रिपोर्ट प्रकाशित किए जाने के समय तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली थी. उनका जवाब आने पर रिपोर्ट को अपडेट किया जाएगा.

रेणु बाला ने 2013 और 2018 में लगातार दो बार महापौर पद के लिए चुनाव जीता और महिलाओं के लिए आरक्षित सीट पर अपना जगह सुरक्षित रखी.

समय-समय पर मिलती रही है छूट

राम रहीम को पहले चुनाव की महत्वपूर्ण तारीखों के आसपास फरलो दी गई थी. 24 अक्टूबर, 2020 को हरियाणा में बड़ौदा विधानसभा उपचुनाव से पहले अपनी बीमार मां से मिलने के लिए अस्थायी रूप से जेल से रिहा किया गया. बाद में इसी साल फरवरी में पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले 21 दिनों के लिए बाहर आने की छूट मिली. हरियाणा निकाय चुनाव और पंजाब में संगरूर लोकसभा उपचुनाव से पहले जून में उन्हें फिर से एक महीने की पैरोल दी गई थी.

ये भी पढ़ें-  NOC नहीं लेने वाले होटल, रेस्टोरेंट, ढाबे, बैंक्वट हाल और मैरिज पैलेस पर प्रदूषण बोर्ड सख्त

माना जाता है कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को हरियाणा और पंजाब के दलित समुदायों के बीच काफी लोकप्रियता हासिल है और वे चुनाव नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं. 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले डेरा ने पहली बार खुलकर भाजपा का समर्थन किया था.

राम रहीम सिंह को 2002 के बलात्कार के एक केस में दोषी ठहराए जाने के बाद अगस्त 2017 में पंचकुला में एक विशेष सीबीआई अदालत ने 20 साल कैद की सजा सुनाई थी. उन पर अपनी दो शिष्याओं के बलात्कार का आरोप लगा था.

2019 में उन्हें पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के मामले में तीन अन्य लोगों के साथ दोषी ठहराया गया, जिन्होंने अपने अखबार में आश्रम में डेरा प्रमुख द्वारा महिलाओं के यौन शोषण करने का आरोप लगाते हुए एक गुमनाम पत्र प्रकाशित किया था. 2021 में सीबीआई की एक विशेष अदालत ने उन्हें 2002 में डेरा के पूर्व प्रबंधक रंजीत सिंह की हत्या के मामले में चार अन्य लोगों के साथ आजीवन कारावास की सजा सुनाई.