संघ प्रदेश दमण कि औधोगिक इकाइयों में भारी अनियमितताएँ, प्रशासनिक अधिकारियों कि कार्यप्रणाली शंका के दायरे में।

निजी ठेकेदार/बिल्डर्स एवं मालिकों को निर्माण की लागत का 1 प्रतिशत उपकर जमा करना जरूरी | Kranti Bhaskar

संध प्रदेश दमण में ऐसी कई इकाइयां है जिनहे नियमों कि कोई परवाह नहीं। कुछ इकाइयां पर्यावरण नियमों का पालन नहीं कर रही है तो कुछ श्रमिकों का शोषण कर रही है। कुछ पी-एफ चोरी कर रहे है तो कुछ जी-एस-टी चोरी कर सरकार को चुना लगा रहे है। कई औधोगिक इकाइयों में तो श्रमिकों कि सुरक्षा का भी ध्यान नहीं रखा जाता और सुरक्षा उपकरणो के बिना श्रमिक को मौत के कुए में काम करने के लिए छोड़ दिया जाता है, हादसा होने के बाद हरकत में आने वाले अधिकारी भी श्रम ठेकदार और इकाई प्रबंधन को बच निकलने के लिए पूरा सहयोग करते है क्यो कि लाश रिश्वत नहीं दे सकती। कुल मिलाकर यह कह सकते है इकाई से संबन्धित नियमों का पालन करवाने में, संबन्धित विभाग और विभागीय अधिकारी अब तक नाकाम साबित हुए है।

  • दमण कि इन इकाइयों में प्रदूषण नियंत्रण समिति, लेबर विभाग और फेक्ट्री इंस्पेक्टर, को निरीक्षण करने कि जरूरत।
ये भी पढ़ें-  जिला पंचायत के विकास कार्यों में कमीशनखोरी धड्ड्ले से। दमन जिला पंचायत में करोड़ों का भ्रष्टाचार।

BALAJI EXTRUSIONS & CABLES PVT LTD
BANSWARA SYNTEX LIMITED
BRIGHT ELECTRICALS
COOLDECK INDUSTRIES PRIVATE LIMITED
GOLDSTAR POLYMERS LIMITED
JANS COPPER PRIVATE LIMITED
JOLLY CONTAINERS
KABRA EXTRUSIONTECHNIK LIMITED
MANI MORE SYNTHETICS PRIVATE LIMITED
MEDLEY PHARMACEUTICALS LIMITED
NOVEX POLY FILMS PRIVATE LIMITED
PVN FABRICS PRIVATE LIMITED
SAMEER INDUSTRIES
SONI STEEL & APPLIANCES PRIVATE LIMITED
SSF PLASTICS INDIA PRIVATE LIMITED
TEMPLE PACKAGING PRIVATE LIMITED

इन कंपनियों के बारे में जानकारी मिली है कि उक्त इकाइयों में से कोई इकाई पर्यावरण नियमों को धत्ता बता रहा रही है तो कोई श्रमिकों को चुना लगा रही है। बताया यह भी जाता है कि इनमे से कई इकाइया तो श्रमिकों को सुरक्षा उपकरण भी नहीं देती। श्रम विभाग के अधिकारियों तथा फ़ेक्ट्री इंस्पेक्टर को चाहिए कि वह उक्त तमाम कंपनियों का निरक्षण और जांच करें तथा नियमानुसार कार्यवाही करें।