इस साल 70 से अधिक पत्रकार मारे गये, UN Chief ने पत्रकारों की सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने सोमवार को कहा कि इस साल 70 से अधिक पत्रकार मारे गये हैं और रिकॉर्ड संख्या में मीडियाकर्मी वर्तमान में जेल में बंद हैं. विश्व निकाय ने कहा कि पत्रकारों को जेल में डालने और जान से मारने की धमकी जैसी घटनाओं में वृद्धि हो रही है, इसने सरकारों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय से मीडियाकर्मियों की सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाने का आह्वान किया. गुतारेस की टिप्पणी दो नवंबर को इंटरनेशनल डे टू एंड इम्प्युनिटी फॉर क्राइम्स अगेंस्ट जर्नलिस्ट्स से पहले आयी है.

ये भी पढ़ें-  बगल में स्थित है जोधपुर जेल, फिर भी जारी है भ्रष्टाचार और वसूली का अनोखा खेल!

महासचिव ने कहा, स्वतंत्र प्रेस एक लोकतंत्र के लिए काम करने, गलत कामों को उजागर करने और सतत विकास लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण है, उन्होंने कहा, फिर भी, समाज में इस भूमिका को पूरा करने के दौरान इस वर्ष 70 से अधिक पत्रकार मारे गये हैं. इनमें से अधिकतर अपराध अनसुलझे हैं. इस बीच, आज रिकॉर्ड संख्या में पत्रकार जेल में बंद हैं तथा उन्हें कारावास, हिंसा और जान से मारने की धमकी देने की घटनाएं बढ़ती जा रही हैं.

ये भी पढ़ें-  252 करोड़ रुपए के होटल को 7.50 करोड़ रुपए में बेचने का मामला, हाईकोर्ट ने गैर जमानती वारंट को जमानती वारंट में बदला।

गुतारेस ने कहा, कानूनी, वित्तीय और अन्य साधनों के दुरुपयोग के माध्यम से डराने-धमकाने की घटनाएं शक्तिशाली लोगों को जवाबदेह ठहराने के प्रयासों को कमजोर कर रही हैं. इससे न केवल पत्रकारों, बल्कि पूरे समाज को खतरा है. पत्रकारों की सुरक्षा पर संयुक्त राष्ट्र की कार्य योजना का उद्देश्य सभी मीडियाकर्मियों के लिए एक सुरक्षित और मुक्त वातावरण बनाना है. गुतारेस ने कहा कि सरकारों और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को मीडियाकर्मियों की सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाने चाहिए.