मेरा गांव बड़ा अच्छा था…

भीड़-भाड़ वाले शहर से तो मेरा छोटा सा गांव बढ़ा अच्छा था !
बड़ी बड़ी बिल्डिंगों से तो मेरा छोटा सा मकान बड़ा अच्छा था !

याद है मुझे आज भी रामू काका की जलेबी रबड़ी वाली दुकान !
वह गांव का शुद्ध देसी घी और मक्खन का स्वाद बढ़ा अच्छा था !

ये भी पढ़ें-  अवैध खनन के आरोपी के घर से ED को मिली हेमंत सोरेन की पासबुक और चेक बुक

नहीं था वहां शहरों की तरह शोर शराबा धुआं धक्कड़ प्रदूषण !
खेतों खलीयानो हरियाली और नदी का बहाव बड़ा अच्छा था !

काम से थक हार कर बैठ जाता था उस नीम की ठंडी छांव में !
गद्देदार पलंगों से तो उस खटिया का आराम बड़ा अच्छा था !

ये भी पढ़ें-  जोधपुर में लॉकडाउन में अप्रवासी लोगों की उमड़ी रोडवेज बस स्टैंड पर भीड़

नहीं थी चालाकी और धोखेबाजी शहरों के लोगों की तरह वहां !
इमानदारी भोलेपन वाले लोगों से भरा मेरा गांव बड़ा अच्छा था !