अतिक्रमण हटाने गई पुलिस और प्रशानिक अधिकारियों को भीड़ ने घेरा, आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े

गुजरात के पोरबंदर में पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े हैं। बताया जा रहा है कि मेमनवाड़ा इलाके में पुलिस अधिकारियों को स्थानीय लोगों की भीड़ द्वारा घेरे जाने के बाद पुलिस कर्मियों ने आंसू गैस के गोले दागे। पुलिस यहां अवैध निर्माण को ध्वस्त करने पहंची थी। तब ही स्थानीय लोगों की भीड़ ने अधिकारियों को घेर लिया जिसके बाद आंसू गैस के ये गोले छोड़े गये हैं। बताया जाता है कि गुजरात के कुछ इलाकों में पिछले 3-4 दिनों से अतिक्रमण हटाओ अभियान चल रहा है. इनमें देवभूमि द्वारका, पोरबंदर और गिर सोमनाथ के कुछ इलाके शामिल हैं।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुलिस और प्रशासन की टीम यहां अतिक्रमण हटाने के लिए आई थी। लेकिन प्रशासन के इस अभियान के दौरान स्थानीय लोग नाराज हो गए। नाराज लोगों ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को चारों तरफ से घेर लिया। इसके बाद पुलिस ने इस भीड़ को खदेड़ने के लिए आंसू गैस के गोलों का इस्तेमाल किया।

ये भी पढ़ें-  अगस्त महीने मैं सात दिनों के लॉकडाउन के पहले दिन सभी सीमावर्ती इलाकों पर बंगाल पुलिस रही सख्त

बताया जा रहा है कि यहां पुलिस अधिकारी तटीय जिले देवभूमि द्वारका, पोरबंदर और गिर सोमनाथ में अवैध निर्माण को ध्वस्त करने की कार्रवाई में जुटे हैं। सोमवार से ही पुलिस विभिन्न इलाकों में अवैध निर्माण को हटाने का काम कर रही थी। इससे पहले द्वारका में पुलिस ने सरकारी भूमि पर अतिक्रमण के खिलाफ कानून का डंडा चलाया था। यहां बड़े पैमाने पर अवैध कब्जे को हटाया गया था। अभियान के दौरान जिले और पड़ोसी जिलों और यहां तक ​​कि राज्य रिजर्व पुलिस बल के पुलिस बल के 1000 से अधिक जवानों को सेवा में लगाया गया था।

ये भी पढ़ें-  गुजरात में चुप नहीं बैठी कांग्रेस, प्रचार के लिए अपना रही है खास रणनीति