कांग्रेस और एन-सी-पी की मानसिकता से ग्रसित गोपाल टंडेल चला रहे है भाजपा में अपनी मनमानी!

दमन : संध प्रदेश दमन-दीव में जब से भाजपा का अध्यक्ष गोपाल टंडेल को बनाया गया तब से एक तरफ गोपाल टंडेल की मुसीबतें बढ़ती रही तो दूसरी और हाजपा की छवी-धूमिल होती रही, लेकिन अब तक आलाकमान इस मामले में अपनी भवे टेढ़ी क्यों नहीं की यह देखने वाली बात है।

अगर बाद भाजपा अध्यक्ष के गोपाल टंडेल की करे तो पिछले कई दिनों से इन पर कभी अपनी मनमानी करने के बाबत तो कभी भाजपा के सविधान को ठेस पहुंचाने के बाबत आरोप प्रतियारोप लगते रहे है, पिछले दिनों वरिष्ठ भाजपा नेता नवीनचंद्र अख्खुभाई पटेल ने गोपाल दादा के प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बनने को अवैध करार देकर दमन-दीव की राजनीति में एक भूचाल ला दिया था। नवीनचंद्र पटेल ने गोपाल दादा पर दल बदलू होने का आरोप भी लगाया और भाजपा के सविधान को ताख पर रख अपनी मनमानी करने का आरोप भी लगाया, इसके अलावे और कई मामलों में भाजपा के आलाकमान एवं अध्यक्ष अमित शाह सहित नरेंद्र मोदी को खुले तौर पर पत्र लिख पूरे मामले में संज्ञान लेकर भाजपा की मर्यादा और सविधान की रक्षा करने का आग्रह भी किया।

अभी नवीनचंद्र पटेल द्वारा लगे आरोप पर भाजपा की और से कोई जवाब मिले इस से पहले एक और मामला सामने आ गया। संध प्रदेश के वरिष्ठ भाजपा नेता भाजपा नेता बालूभाई पटेल ने काँग्रेस एवं राष्ट्रीय जनता पार्टी शासित दमन जिला पंचायत को उसके वैधानिक अधिकार दिलाने के प्रयासों के लिये गोपाल दादा पर हमला बोला है। भाजपा नेता बालूभाई पटेल ने गोपाल टंडेल पर भाजपाई होने पर संदेह व्यक्त करते हुए सवाल उठाये कि जिस तरह से आप ( गोपाल दादा ) कहलाते है उस तरह अपने नाम के पीछे लगने वाले “दादा” शब्द को दमन-दीव भाजपा एवं भाजपाई कार्यकर्ताओं पर आजमा कर भाजपा की छवी धूमिल ना करें, तथा इसके अलावे भाजपा नेता बालू पटेल ने यह भी बताया की शायद अब तक गोपाल टंडेल को यह अहसाह ही नहीं कि भाजपा के एवं काँग्रेस तथा एन-सी-पी के सिद्धांतों में काफी अन्तर है।

  • दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष पर भाजपा के सिद्धांतों को धत्ता बताने का आरोप!
  • दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष की कार्यशेली पर सवाल, नरेन्द्र मोदी एवं अमित शाह को भेजे गए पत्र।
  • गोपाल टंडेल ने किसकी अनुमति से कि होटल सी-दा दे में भाजपा-कांग्रेस कि संयुक्त मीटिंग ? बालुभाई पटेल।
  • काँग्रेस-राजपा शासित दमण जि.पं. को अधिकार दिलाने निकले गोपाल दादा, लेकिन भाजपा बहुमत वाली डीएमसी को अधिकार दिलाने के लिये क्या कभी मुहिम चलाई: बालूभाई पटेल
ये भी पढ़ें-  दानह के इन गांवों में घरों का सामान व अनाज सब बाढ़ के पानी मे डूबने से खराब।

बालू पटेल यह सवाल किया कि, दमन जिला पंचायत को उसके अधिकार दिलाने के लिये प्रयास कर रहे हैं, क्या इसी तरह भाजपा की पूर्ण बहुमत वाली दमण म्युनिसिपल कौंसिल को उसके अधिकार दिलाने हेतु आपने अब तक कोई कोशिश की ? भाजपा के सक्रिय एवं समर्पित कार्यकर्ता बालूभाई पटेल ने गोपाल दादा को लिखे पत्र में उनसे पूछा कि गत दिनों आपने होटल सिदा – दे  – दमण में काँग्रेस के वरिष्ठ नेता के साथ काँग्रेसी जनप्रतिनिधियों एवं भाजपा के जनप्रतिनिधियों के साथ पंचायत को अधिकार दिलाने के लिये जो संयुक्त बैठक आयोजित की थी, इसके लिये क्या आपने संगठन मंत्री और प्रभारी से चर्चा की थी तथा उनसे अनुमति ली थी ? क्या इतनी महत्वपूर्ण बैठक और बैठक के बाद संघ प्रदेशों के सर्वोच्च प्रशासनिक प्रमुख प्रशासक को परिपत्र सौंपने के बारे में आपने प्रदेश भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ या भाजपा फोरम में चर्चा की थी ? जिस तरह से आपने काँग्रेस और राजपा शासित जिला पंचायत को वैधानिक अधिकार दिलाने के लिये प्रयास किये क्या ऐसे ही प्रयास पूर्ण भाजपा शासित दमण म्युनिसिपल कौंसिल को दिलाने हेतु किया क्या ?  दमण म्युनिसिपल कौंसिल के बन रहे संशोधित रेगुलेशन पर विचार – विमर्श के लिये इस तरह की बैठक क्या आपने (गोपाल दादा)  कभी बुलाई ? भाजपा नेता बालूभाई पटेल ने गोपाल दादा को लिखे अपने पत्र में आगे कहा कि 2012 के जिला पंचायत रेगुलेशन में जब पंचायत के अधिकारों में कटौती हुई थी तो उस समय केंद्र में काँग्रेस और एनसीपी की सहभागिता वाली यूपीए – 2 की सरकार थी। उस समय आप ( गोपाल दादा ) दमन-दीव एनसीपी के अध्यक्ष थे तो क्या इसी प्रकार की मुहिम आपने यूपीए – 2 सरकार के सामने चलायी थी ? बालूभाई पटेल ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष गोपाल दादा की निष्ठा पर सवाल उठाते हुए कहा कि आपकी इस तरह की हरकतों को देखते हुए मुझे लग रहा है कि आप केंद्र की भाजपा सरकार और उसके मनोनीत अधिकारियों के सामने यूपीए-2 सरकार की गलती का ठिकरा भारतीय जनता पार्टी पर फोडऩे का काम कर रहे हैं, जिससे कि भाजपा के हजारों कार्यकर्ताओं और दमन-दीव की जनता का भरोसा भाजपा से उठ जाये। बालूभाई पटेल ने गोपाल दादा से कहा कि भाजपा अपने संविधान, अपनी विचारधारा एवं जन-जन को साथ लेकर चलने वाली पार्टी है। जब से प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के रूप में आपकी नियुक्ति हुई है तब से आप अपनी मनमर्जी चलाते आ रहे हैं। आप एकला चलो ( अकेले चलो ) की नीति अपना रहे हैं, ऐसे में आपको भाजपा संविधान और भाजपा की विचारधारा कैसे याद रहेगी ? बालूभाई पटेल ने गोपाल दादा से कहा कि आप काँग्रेस और एनसीपी की मानसिकता से ग्रसित हैं तो मैं भाजपा के एक समर्पित कार्यकर्ता होने के नाते आपको बता देना चाहता हूँ कि भाजपा मनमर्जी (आपखुदशाही) से नहीं बल्कि वसुधैव कुटुंबकम की भावना से चलती है, जिसमें नेशन फस्ट, पार्टी नेक्सट, सेल्फ लास्ट का भाव निहित होता है। बालूभाई पटेल ने भाजपा अध्यक्ष गोपाल दादा से पत्र में कहा कि मैं उपरोक्त विषय में आप से जवाब की आशा रखता हूँ। भाजपा नेता बालूभाई पटेल ने गोपाल दादा को लिखे इस पत्र की प्रतिलिपि को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, राष्ट्रीय संगठन महामंत्री रामलाल जी, राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री वी. सतीश और प्रदेश प्रभारी रघुनाथ कुलकर्णी को भी जानकारी के लिये भेजी है। दूसरी ओर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष गोपाल दादा का इन आरोपों पर पक्ष नहीं मिल पाया हैं। मगर गोपाल दादा की प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के रुप में हुई नियुक्ति के भाजपा संविधान के तहत अवैध बताने और उनकी कथित कारगुजारियों की लगातार शिकायतों के बाद भी भाजपा राष्ट्रीय कमान की ओर से कोई ठोस कदम नहीं उठाने से समर्पित कार्यकर्ताओं में रोष पनपता बताया जा रहा है। देखते हैं कि भाजपा आलाकमान समर्पित कार्यकर्ताओं की भावनाओं की कद्र करता हैं या दमन-दीव भाजपा संगठन को अंतर्कलह की खाई में गिरने देता है।

ये भी पढ़ें-  विधुत विभाग के कनीय अभियंताओं के सहारे भ्रष्टाचार की काली कमाई की लेन-देन.