दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष गोपाल टंडेल की कुर्सी ख़तरे में।

Gopal-Tendel-02
Gopal-Tendel-02

दमन : संध प्रदेश दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष पद पर बैठने के बाद दमन-दीव के इतिहास में यह पहले अध्यक्ष होंगे जिनके अध्यक्ष बने अभी चंद माह में अध्यक्ष की कार्यशेली पर इतने सवाल खड़े हो गए हो। दमन-दीव के भाजपा नेता नवीन अख्खुभाई पटेल ने यह आरोप लगाया है की भाजपा संगठन महामंत्री विवेक धाडकर और प्रभारी रघुनाथ कुलकर्णी ने पैसे लेकर गोपाल दादा को बनाया दमन-दीव भाजपा का अध्यक्ष बनाया, तथा इस मामले में खुले तौर पर भाजपा नेता नवीनचंद्र अख्खुभाई पटेल ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को पत्र लिख कर इस मामले में हुई कारगुजारियों से अवगत कराया।

हालांकि इस से पहले भी दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष गोपाल टंडेल पर भाजपा के संविधान एवं शिद्धांतों की अनदेखी के साथ साथ कार्यकर्ताओं को दरकिनार करने के कई आरोप लग चुके है तथा पिछले एक लम्बे समय से जिस तरह कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले कार्यकर्ताओं को बड़े बड़े प्रमुख पर दिए जा रहे है उसे देखकर लगता है की यह कोई भाजपा का पूरी तरह कांग्रेसीकरण करके भारतीय जनता पार्टी को नेस्तनाबूत करने की साजिश हो रही है।

ये भी पढ़ें-  दमन में माफियागिरी और भाईगीरी का नंगा नाच, दिन-दहाड़े, अजय पटेल पर दो-राउंड फाइरिंग!

भाजपा संगठन महामंत्री विवेक धाडकर और प्रभारी रघुनाथ कुलकर्णी पर पैसे लेकर दमन-दीव भाजपा अध्यक्ष की कुर्सी का सौदा करने का आरोप!

हालांकि दमन-दीव में ऐसे कई प्रमुख चेहरे और कार्यकर्ता है जिन्होने कांग्रेस से गद्दारी कर भाजपा के पाले में अपना आशियाना बसा लिया लेकिन सवाल यह है की आखिर कब तक वह भाजपा के वफादार बने रहेंगे ? आखिर कब तक भाजपा कांग्रेस छोड़ने वालों को अधिक तबज्जों देती रहेगी, जबकि भाजपा यह भूल गई की आज भाजपा में कांग्रेसी कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो रहे है वह तो आज के भाजपा साथी है जबकि भाजपा को सालों से अपनी सेवा देने वाले कार्यकर्ता अब भी निराश देखे गए।

ये भी पढ़ें-  केतन पटेल ने की  सीआरजेड नोटिफिकेशन पर समय अवधि बढाने की मांग 

भाजपा आलाकमान को चाहिए की इस मामले में जल्द कोई निर्णय ले क्यों की विलंब किसी विकल्प का नाम नहीं! शेष फिर।